Atmanirbhar bharat abhiyan

Atmanirbhar Bharat Abhiyan |आत्मानिर्भर भारत अभियान – निबंध

Government Schemes

दोस्तों आइये देखतें हैं आज की Atmanirbhar Bharat Abhiyan kya hai? आज हम आत्मानिर्भर भारत अभियान पर निबंध लिखेंगे जो आप अपने स्कूल या कॉलेज की पढाई में इस्तेमाल कर सकते हैं।

हमारे माननीय प्रधानमत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने अपने हाल के ही भाषण में Atmanirbhar Bharat Abhiyan |आत्मानिर्भर भारत अभियान का जिक्र किया था और इस्पे काफी जोर दिया।

स्वदेशी आन्दोलन और आत्मानिर्भर भारत अभियान

प्रधानमत्री जी के Atmanirbhar Bharat Abhiyan सन्देश और हमारे राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी जी के स्वदेशी अभियान में काफी समानताएं है। महात्मा गाँधी जी के स्वराज मूवमेंट के समय से ही आत्मानिर्भरता हमारे समाज के लिए एक महत्वपूर्ण सन्देश रहा है।

आत्मानिर्भर भारत पर प्रधानमंत्री जी का संदेश और इस दिशा में उठाये गए कदम हमारे देश को एक मैन्युफैक्चरिंग और इकोनॉमिक पावर बनाने की तरफ एक अच्छा कदम है।

चीन के आर्थिक सुधारों से सीख

१९८० में चीन के राजनेता एवं सुधारक  श्री देंग शियाओ पिंग ने आर्थिक सुधार की शुरुआत की और चीन को पूरे विश्व में एक इकोनॉमिक पावर हाउस के रूप में स्थापित किया।

हलाकि चीन का यह मॉडल हो सकता है की भारत के लिए उचित न हो सके क्योंकि हमारा समाज और सिस्टम चीन से काफी अलग है।

फिर भी हम चीन की इस सफलता से बहुत कुछ सीख सकते है और ऐसे कदम उठा सकते हैं जो हमारे विकास के लक्ष्य को पूरा कर सके और हमें एक विश्व स्तर पे एक इकोनॉमिक और मैन्युफैक्चरिंग पावर हाउस बना सके।

Atmanirbhar Bharat Abhiyan ( आत्मानिर्भर भारत अभियान )- सरकार की भागीदारी

आत्मानिर्भर भारत अभियान में सरकार की बहुत बड़ी भूमिका होगी। सरकार को ऐसा माहौल तैयार करना होगा की व्यापार को बढ़ावा मिले।

इस बात को ध्यान में रखते हुए प्रधानमंत्री जी ने अपने सन्देश में इस बात पे भी जोर दिया की हमें कुछ पालिसी बदलाव भी करने पड़ेंगे। नए नियम बनाने की जरूरत पड़ेगी और काम करने के तरीकों में भी बदलाव की आवयश्कता होगी।

देश में प्रोडक्शन और मैन्युफैक्चरिंग यूनिट्स को और सहूलतें देने की जरूरत है और उसी तरह कच्चा माल ( raw material ) उत्पादको को भी प्रोत्साहित करने की आवयश्कता है।

यह समय की मांग है की ऐसा नपा तुला नियम बनाया जाये की स्वदेशी तकनीक और कंपनियों को बढ़ावा मिले। हो सकता है की कुछ छेत्रों में विदेशों से आयात को भी रेगुलेट किया जाये जिससे स्वदेशी कंपनियों को बढ़ावा मिल सके।

और साथ में यह भी जरूरी है की स्वदेशी कम्पनिया अंतर्राष्ट्रीय मानकों को अपने हुए उच्च स्तर का सामान बनाये जो विदेशों में भी बेचा जा सके।

इसलिए कंपनियों को अपने कारोबार को बेहतर बनाने के लिए इसे शुरू से प्रयास करने चाहिए।

और सरकार को भी टेक्नोलॉजी में निवेश करने की आवयश्कता है ताकि काम जल्दी हो और उसमे पारदर्शिता बानी रहे।

वर्ल्ड-क्लीस इन्फ्रास्ट्रक्चर बनाना बहुत जरूरी है और इसमें ढेर सरे निवेश की जरूरत है।

Atmanirbhar Bharat Abhiyan क्यों जरूरी है

Atmanirbhar Bharat Abhiyan इसलिए भी जरूरी है क्योकि अगर कुछ सख्त कदम न उठाये गए अगले ५ से १० सालों में तो हमारे आर्थिक आत्मनिर्भरता हासिल करने का लक्ष्य अधूरा रह जायेगा और बहुत से देश हमसे आगे निकल जाएँगी।

और इससे अच्छा समय क्या होगा की इतिहास में की पूरी दुनिया में भारत इस समय एक मजबूत देश के रूप में उभर रहा है। एक स्थिर सरकार है और हमारे युवा विश्वाश से भरे हैं। यह एक बहुत ही उत्तम समय है कुछ कड़े फैसले करके और ऐसे अभियान लेक देश को आगे ले जाने का।

इसलिए सरकार के इस विचार का हमें स्वागत करना चाहिए और इस स्कीम में कदम से कदम बढ़ा के भाग लेना चाहिए।

Atmanirbhar Bharat Abhiyan – पक्ष और विपक्ष

सो आइये अब हम दोनों तर्क देख लेते हैं। पक्ष में भी बात करेंगे और विपक्ष में भी।

पक्ष में तर्क

  • आत्मानिर्भर भारत अभियान का उद्देश्य लोकल प्रोडक्ट्स को ग्लोबल मार्किट में लेके जाना। भारत को ग्लोबल सप्लाई चैन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बनाना है। यह एक काफी महत्वकांक्षी कदम है।
  • इस पैकेज के अंतर्गत , छोटे बिज़नेस ( Mеdium, Smаll, Micro Еntеrprisеs (MSMЕ) ) जिनका टर्नओवर १०० करोड़ रूपये तक है उन्हें लोन देने का प्रावधान है। अक्सर बैंक ऐसे बिज़नेस को लोन देने में हिचकिचाती है क्योंकि उन्हें पैसा वापस मिलने का गॅरंटी काम होता है। सरकार इस पैकेज के तहत ऐसे ही MSME सेक्टर के बिज़नेस को प्रोत्साहित करेगी।
  • कोविद १९ की परेशानी से MSME सेक्टर पे सबसे ज्यादा प्रभाव पड़ा है और इस पैकेज से उन्हें बहुत फायदा होगा। लगभग ४५ लाख कंपनियों को फायदा पहुंचेगा और लगभग ११ करोड़ लोगो की नौकरिया बचाई जा सकेंगी।
  • इस पैकेज के तहत एग्रीकल्चर सेक्टर में भी सुधार के कोशिश की गयी हैं
    • ३०,००० करोड़ रुपए छोटे किसानों के लिए आवंटित किये गए हैं जो किसान क्रेडिट कार्ड द्वारा दिए जायेंगे
    • २०,००० करोड़ रूपये मछलीपालन व्यवसाय को आवंटित किये गए हैं
    • १३००० करोड़ रुपए पशु और मुर्गी पालन सेक्टर के लिए और
    • १००००० करोड़ रूपये एग्रीकल्चर सोसाइटी रिफार्म के लिए आवंटित किये गए हैं
  • अंतरिक्ष में भारत के वर्चस्व को बढ़ाने के लिए यह सेक्टर भी प्राइवेट कम्पनयों के लिए खोल दिया गया है
  • ३०,००० करोड़ रुपये Non-bаnking Finаncе Compаniеs (NBFCs) सेक्टर के लिए दिए गए हैं।
  • ९०,००० करोड़ रुपये पावर डिस्ट्रीब्यूशन को मजबूत करने के लिए आवंटित किये गए हैं
  • ५००० करोड़ रूपये स्ट्रीट वेंडर्स को लोन सुविधा मुहैया करवाने के लिए
  • और ४०००० करोड़ रूपये MGNRЕGА के तहत आवंटित किये गए हैं
  • वन नेशन वन कार्ड ( Onе Nаtion – Onе Cаrd ) – राशन कार्ड लांच किया गया जिससे कहीं भी आप रहे आप सरकारी राशन कार्ड स्कीम का फायदा उठा सकते हैं।
  • हेल्थ और इन्शुरन्स सेक्टर ( स्वस्थ्य और बीमा ) पे काफी जोर दिया गया है

विपक्ष में तर्क

  • सबसे बड़ी आलोचना इसको लेके ये है की यह मेक इन इंडिया ( Make In India ) की तरह ही है और आलोचकों के अनुसार यह उसी स्कीम का नया नाम है बस।
  • इस स्कीम के अंतर्गत बहुत सारे सेक्टर्स प्राइवेट कंपनियों के लिए खोल दिए गए हैं।
  • इस स्कीम में रिसर्च और डेवलपमेंट पे कुछ ख़ास ध्यान नहीं दिया गया है।
  • विदेशी निवेशकों को यह एक protеctionist policy लगेगी और वे निवेश करने से हिचकिचाएंगे।
  • और ये पैकेज शायद पूरा नहीं पड़ेगा इकॉनमी को वापस पटरी पे लेन के लिए। और ज्यादा की जरूरत होगी।
  • और बड़े शहरों में जहाँ लोग ज्यादा जा रहे हैं वहां नौकरिया कैसे लाई जाएँ इसपे पैकेज में कुछ खास प्रावधन नहीं है।

सारांश

कोविड १९ की वजह से काफी समस्याएं आयी। कारोबार रुक गए। लोगों की नौकरिया चलीं गयी। हर देश में सरकार को कुछ ऐसे कदम उठाने पड़े की अर्थव्यवस्ता वापस पटरी पे आ सके।

और इसी लिए Atmanirbhar Bharat Abhiyan ( आत्मानिर्भर भारत अभियान ) आज के समय में और भी जरूरी हो जाता है। यह बहुत आवश्यक है की हम हर छेत्र में विदेशो पे निर्भरता काम करें और जितना हो सके अपने ही देश में बानी चीजों का उपयोग करे। आत्मनिर्भर बने !


इसे भी पढ़ें – स्किल इंडिया मिशन क्या है

 571 total views,  1 views today

Lata

Hello Friends, Thank you for stopping by at a2zHindiInfo.com। आपकी तरह मुझे भी current affairs और General Knowledge बहुत पसंद है और आज के ज़माने में अपने आस पास जो हो रहा है उससे अपने आप को अपडेटेड रखना भी बहुत जरूरी है । मैंने जो भी ज्ञान हासिल किया है उसे मै सबके साथ शेयर करना चाहती हूं और मेरा ये ब्लॉग उसी दिशा में एक कदम है। अगर आपका कोई सुझाव है इस वेबसाइट को लेके या कोई शिकायत है तो हमें जरूर लिक भेजें। हमारा ईमेल हैं contact@a2zhindiinfo.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *