Chipkali bhagane ka tarika

Chipkali bhagane ka tarika – छिपकली भगाने के तरीके

General Gyan Tips

Chipkali bhagane ka upay : छिपकली नाम सुनते ही हम में से अधिकतर लोग डर जाते है,अगर पता चला कि,घर में छिपकली है तो कोई कोई घर के अंदर तक प्रवेश नहीं करते. क्या आपके घर में भी यह समस्या है ? सो दोस्तों इस पोस्ट जानते है – Chipkali bhagane ka tarika – छिपकली भगाने के तरीके।

छिपकली घर में क्यों आती है ?

बारिश के शुरू के दिन में कई कीड़े हमारे घर के लाइट के पास मंडराते रहते है उन्हें देख छिपकली आ जाती है क्योंकि, छिपकली को उड़ने वाले ये छोटे छोटे परिंदे भोजन के रूप में मिल जाते हैं।

फिर अगर आपके घर में बहुत सारे मकड़ी के जाले या कॉकरोच हैं तो भी आप अपने घर में काफी छिपकली पाएंगे क्योंकि ये सब उसके भोजन हो जाते हैं।

उसे भागने के लिए अक्सर हम झाड़ू से उसे भगाते हैं पर उसे इस तरह भगाने से एक नुक्सान यह है की वो कूद के आपके ऊपर भी आ सकती है। अब ऐसा नहीं है छिपकली आपको काट देगी। हालाकि हम सबको उसी बात का डर लगता है।

पर होता यह है के उसके पैर के नाखून आपको कहीं पर घाव दे सकते हैं जो बाद में बढ़ के बड़ा हो सकता है

छिपकली जहा भी हो उसके थोड़े दूर अंतर पर झाड़ू से दीवार पर आवाज करते करते बहुत धीरे धीरे उसका मुंह बाहर खिड़की या दरवाजे की दिशा की तरफ करे इस तरह उसकी दिशा बदलकर दूर से ही झाड़ू से उसे आहिस्ते आहिस्ते बाहर भगाएं। यह एक तरीका हो सकता है।

पर यह तो आप भी मानते हैं की छिपकली ऊपर गिर जाये तो अशुभ मानते हैं। सो उससे दूर ही रहना अच्छा है।

सो इसलिए Chipkali bhagane ka tarika पता होना चाहिए। सो आइये जानते हैं Chipkali bhagane ke tareeke !

क्या छपकली मोर के पंख से भागती है ?

क्या छपकली मोर के पंख से भागती हैं ? क्या आपके दिमाग में भी यह सवाल आया है ?

मोर पंख को जरा ध्यान से देखे – क्या दिखाई देता है ?

क्या छपकली मोर के पंख से भागती है ? Chipkali bhagane ka tarika - छिपकली भगाने के तरीके

उसपर किसी बड़े जानवर की आंख की तरह तस्वीर सी दिखाई देती है है अगर हम आसपास कहीं जैसे की फूल के गुलदस्ते में मोर का पंख रख देते है तो छिप कली को यह भ्रम होता है कोई तो मुझे खाने के लिए दूर से घूर रहा है तो वह पास नहीं आती है।

वो वहां से दूर जाने की कोशिश करती है। और हमें ऐसा लगता है की मोर के पंख से कोई ऐसी गंध आती है जिससे छिपकली भागती है

इतना जरूर ध्या रखें की छिपकली खाने में न गिरे क्योंकि इसके अंदर विषैले तत्वा होते हैं जो परिवार में सभी को नुक्सान पहुंचा सकते हैं।

अगर आपको किचन रूम में छिपकली दिखाई दे तो गैस पर पक रहे खाने के पर ढक्कन रखे। खाने की गरम भाप से छिपकली मूर्छित हो कर सीधी आपके खाने के बर्तन में गिर सकती है।

छिपकली भगाने के आसान तरीके – Chipkali bhagane ka tarika

छिपकलियां दर असल उड़ते हुए छोटे छोटे परिंदो को देख उन्हें खाने के लिए आती है। अगर घर में कॉक्रोच या मकड़ी जैसे कीड़े हैं तो उन्हें भी खाने के लिए आ जाती हैं।

सो हमें यह सावधानी बरतनी होगी कि,परिंदे,कीड़े घर में न आए,शाम होने से पहले खिड़कियां बंद रखे या खिड़कियों में जाली लगाए।

जहा छिपकलियों का वास्तव है वहा

  • प्याज और लसुन का रस छिडके क्योंकि,इन्हे प्याज और लहसुन का तीक्ष्ण कसैला गंध पसंद नहीं है, आप लाइट के पास प्याज की कटी स्लाइस किसी धागे में पिरोकर बांध सकते है इनके अंदर पाए जाने वाला सल्फर की गंध छिपकलियों को आने नहीं देगा ।
  • तम्बाकू की गोलियां अलमारियां,किताबे के पीछे रखे क्योंकि,तंबाकू के अंदर की निकोटिन की गंध आने से छिपकली कही छिपी होगी तो भाग जाएगी।
  • नेफ्थेलिन की गोलियां कपड़े के अंदर ,बुक सेल के अंदर डाले क्योंकि, नेफ्थेलिन की तीव्र गंध से वह दूर भागती है।
  • मुर्गी के अंडे का छिलका , मुर्गी के अंडे को इस तरह फोड़े की उसमे छोटा सा छेद कर अन्दर का लिक्विड निकाल ले और वही खाली अंडा किसी किल की मदद से लाइट के पास टांग दे। लाइट के पास इतना बड़ा अंडा देखकर वह डर जाती है क्योंकि , उसके अंडे के साइज़ से यह अंडा बड़ा दिखता है तो वह यह अनुमान लगाती है कि,अगर यह अंडा इतना बड़ा है तो जरूर मुझसे भी कोई बहुत बड़ा किसी जानवर का यहां वास्तव है जो कभी भी मुझे निगल सकता है इसी भय से वह वहां आना ही छोड़ देती है।
  • आपने किसी बड़ी तितली के पंख पर आंखो से प्रतीत होने चिन्ह देखे होंगे, वह भी उसके लिए रक्षा कवच का काम करते है उन नकली आंखो को देख अन्य परिंदे उस पर पीछे से हमला नहीं करते।
  • कभी कभी छिपकली लाख कोशिश के बावजूद भी घर से बाहर नहीं नीकलती है तो गाय के गोबर उसका निशाना धर मारते है तो वह गाय के गोबर में धस जाती है, और आप सावधानी से उसे बाहर निकाल सकते है, लेकिन यह तरीका अंतिम है, हो सके तो इसे न आजमाए तो अच्छा है।

सो दोस्तों कैसी लगी आपको यह जानकारी। हमें कमेंट करके जरूर बताएं।

आपको यह भी पसंद आएगा : Home made Face Packs in Hindi language – घर पर कैसे बनाएं फेस पैक

 32 total views,  1 views today

Lata

Hello Friends, Thank you for stopping by at a2zHindiInfo.com। आपकी तरह मुझे भी current affairs और General Knowledge बहुत पसंद है और आज के ज़माने में अपने आस पास जो हो रहा है उससे अपने आप को अपडेटेड रखना भी बहुत जरूरी है । मैंने जो भी ज्ञान हासिल किया है उसे मै सबके साथ शेयर करना चाहती हूं और मेरा ये ब्लॉग उसी दिशा में एक कदम है। अगर आपका कोई सुझाव है इस वेबसाइट को लेके या कोई शिकायत है तो हमें जरूर लिक भेजें। हमारा ईमेल हैं contact@a2zhindiinfo.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.