computer kya hai

Computer Kya hai – कंप्यूटर क्या है – सारी जानकारी हिंदी में

Computer & Technology

Computer Kya hai – कंप्यूटर क्या है दोस्तों ? आजकल computer (कंप्यूटर ) का जमाना है। ऐसा आपने अक्सर सुना होगा।

अगर आपने computer का इस्तेमाल न भी किया हो तो आपने मोबाइल फ़ोन पे इंटरनेट तो देखा ही होगा और मई आपको ये बता दूँ की जो इनटरनेट है वो भी कंप्यूटर से सीधे सम्बंधित है।

सो ये Computer Kya hai – कंप्यूटर क्या है ? क्या ये सवाल आपके जहन में बार बार आता है ? तो चलिए हम जानते हैं कंप्यूटर ( Computer ) से सम्बंधित सारी जानकारी और वो भी अपनी भाषा मे – हिंदी में !

Computer definition – कंप्यूटर की परिभाषा क्या है

पहले एक सरल भाषा में इसको समझने की कोशिश करते हैं। एक आसान भाषा में computer kya hai ?

कंप्यूटर एक ऐसी मशीन है जिसे आप कुछ निर्देश देते हैं और वह आपके निर्देशों पर काम करते हुए उसका परिणाम आपको बताता है।

ये तो सरल भाषा में कंप्यूटर का मतलब हमने बताया।

अब ये निर्देश आप लिखित रूप में भी दे सकते हैं या बोल के भी दे सकते हैं. आज के कंप्यूटर इतने आधुनिक है की वो आपके द्वारा बोला हुआ कमांड भी ले सकते हैं.

अब आइये इसकी टेक्निकल परिभाषा भी जान लें –

एक कंप्यूटर एक मशीन है जिसे कंप्यूटर प्रोग्रामिंग के माध्यम से स्वचालित रूप से अंकगणित या तर्क पूर्ण काम को पूरा करने के लिए निर्देश दिया जा सकता है।

आधुनिक कंप्यूटरों में इन निर्देशों को एक पहले से तय रूप में इकट्ठे लिखा जाता है , जिन्हें हम प्रोग्राम कहते है। ये प्रोग्राम कंप्यूटरों को अत्यधिक विस्तृत कार्य करने में सक्षम बनाते हैं।

अब कुछ शब्द जो हमने ऊपर मार्क किया है वो है

  • Computer Programming – कंप्यूटर प्रोग्रामिंग के द्वारा आप सारे निर्देशों को इकट्ठे लिखते हैं। इसे प्रोग्राम कहते हैं।
  • स्वचालित – अपने आप काम करने वाला। यानि की आपने निर्देश दे दिया अब कंप्यूटर अपने आप ही उन निर्देशों को मानते हुए काम करेगा।
  • अंकगणित – maths ( मैथ्स ) से सम्बंधित कार्य जैसे जोड़ना , घटना , गुणा करना और भी maths से रिलेटेड सारे calculation .
  • तर्क पूर्ण काम – Logical operations

तो अब आपने कंप्यूटर की परिभाषा को समझ लिया होगा। आईये जाने की कंप्यूटर शब्द निकला कहाँ से ?

एक बात और समझने वाली है की जब हम कंप्यूटर की बात करते हैं तो उसमे हार्डवेयर (hardware ) और सॉफ्टवेयर (software) दोनों एते हैं और ये क्या हैं इनकी चर्चा आगे करेंगे।

Computer word kahan seaaya – कम्पूटर शब्द की शुरुवात कहाँ से हुई

अब ये जाने की कंप्यूटर शब्द आया कहाँ से ? “Computer ” शब्द Latin भाषा से आया है। लैटिन भाषा में शब्द है “computare” जिसका मतलब है कुछ ” count करना यानि की गिनना “, ” calculate करना , यानि के जोड़ घटाव करना ” , ” think करना यानि की सोचना “.

सो अगर आप देखें तो कंप्यूटर आपका यही सब करता है। है की नहीं ?

Computer ka full form – कंप्यूटर का फुल फॉर्म

C-Commonly ( आम तरीके से )
O-Operated (इस्तेमाल की जाने वाली )
M-Machine (मशीन )
P-Particularly ( जो खासकर)
U-Used for ( इस्तेमाल में आती है )
T-Technology (टेक्नोलॉजी के लिए )
E-Education and ( एजुकेशन यानि पढाई के लिए )
R-Research ( और रिसर्च यानि की शोध के लिए )

सो चलिए थोड़ा कंप्यूटर के इतिहास ( Computer History ) के बारे में भी जान लेते हैं।

Computer History – कंप्यूटर का इतिहास

वैसे देखा जाये तो कंप्यूटर के calculation करने वाली मशीन है। और ऐसी मशीन तो पहले से ही थी। अब अगर आपने abacus (अबेकस ) का नाम सुना हो तो वो भी एक कैलकुलेशन करने वाली चीज है।

हाँ एक मशीन के रूप में नहीं है पर कह सकते हैं की वो कंप्यूटर की परदादा है। लेकिन हम जिस इतिहास की बात कर रहे है वो आज के ज़माने के कंप्यूटर की शुरुवात की बात है।

कंप्यूटर के अब तक के जीवन को ” Generations ( कंप्यूटर पीढ़ी ) ” बांटा गया है और हर जनरेशन में कंप्यूटर में कुछ बड़े सुधार आये हैं। हर जनरेशन के साथ कंप्यूटर और भी आधुनिक हुए है।

First Generation computers – कंप्यूटर की पहली पीढ़ी ( 1946 – 1959 )

पहली पीढ़ी के कंप्यूटर ( first generation computers ) को 1946-1959 के बीच में कहा जाता है।

ये कंप्यूटर धीमे, विशाल और महंगे थे। इन कंप्यूटरों में, वैक्यूम ट्यूब का उपयोग होता था जिसकी वजह से ये काफी भरी भरकम होते थे ।

ये कंप्यूटर मुख्य रूप से बैच ऑपरेटिंग सिस्टम और पंच कार्ड पर निर्भर थे। इस पीढ़ी में चुंबकीय टेप और पेपर टेप का उपयोग होता था

कुछ लोकप्रिय कंप्यूटर जो पहली पीढ़ी के हैं –

  • ENIAC (इलेक्ट्रॉनिक न्यूमेरिकल इंटीग्रेटर और कंप्यूटर)
  • EDVAC (इलेक्ट्रॉनिक असतत परिवर्तनीय स्वचालित कंप्यूटर)
  • UNIVACI (यूनिवर्सल स्वचालित कंप्यूटर)
  • आईबीएम 650 ( IBM 650 )
  • आईबीएम 701 ( IBM 701 )

Second Generation computers – दूसरी पीढ़ी के कंप्यूटर (1959-1965 )

दूसरी पीढ़ी में ट्रांजिस्टर कंप्यूटर का युग शुरू हुआ ।

इन कंप्यूटरों में ट्रांजिस्टर का उपयोग किया जाता था जो सस्ते,छोटे और कम बिजली की खपत करते थे।

पहली पीढ़ी के कंप्यूटरों की तुलना में ट्रांजिस्टर कंप्यूटर बहुत तेज थे ।

यहाँ से कंप्यूटर प्रोग्रामिंग ( जिसकी हमने पहले बात की थी ) की भी लोकप्रियता बढ़ी।

इन कंप्यूटरों में असेंबली लैंग्वेज ( Assembly Language )और प्रोग्रामिंग लैंग्वेज जैसे COBOL और FORTRAN, और बैच प्रोसेसिंग और मल्टीप्रोग्रामिंग ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल किया जाने लगा ।

दूसरी पीढ़ी के कुछ लोकप्रिय कंप्यूटर हैं –

  • आईबीएम 1620
  • आईबीएम 7094
  • सीडीसी 1604
  • सीडीसी 3600
  • UNIVAC 1108

Third Generation Computers – तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटर ( 1965 से 1970 )

तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटर ट्रांजिस्टर के बजाय इंटीग्रेटेड सर्किट (आईसी) – Integrated Circuit का उपयोग करने लगे ।

एक इंटीग्रेटेड सर्किट (आईसी), ट्रांजिस्टर की एक बड़ी संख्या को पैक कर सकता है।

इससे कंप्यूटर की शक्ति कोबढ़ी और दाम घटे । कंप्यूटर भी अधिक तेज , कुशल और आकार में छोटे हो गए। प्रोग्रामिंग लैंग्वेज ( programming languages ) में भी आधुनिकता आये।

उच्च-स्तरीय प्रोग्रामिंग भाषाओं जैसे कि FORTRON-II TO IV, COBOL, PASCAL PL / 1, ALGOL-68 का उपयोग इस पीढ़ी में काफी बढ़ा ।

पॉपुलर तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटर –

  • IBM-360
  • हनीवेल-6000
  • PDP पीडीपी (व्यक्तिगत डेटा प्रोसेसर)
  • आईबीएम-370/168 (IBM )
  • टीडीसी-316 (DTC )

Fourth Generation Computers – चौथी पीढ़ी के कंप्यूटर (1971-1980)

चौथी पीढ़ी के कंप्यूटरों ने बड़े पैमाने परइंटीग्रेटेड (वीएलएसआई) सर्किट (VLSI – Very large scale integrated circuit ) का इस्तेमाल शुरू किया।

एक चिप जिसमें लाखों ट्रांजिस्टर और अन्य सर्किट तत्व होते है। इन चिप्स ने इस पीढ़ी के कंप्यूटरों को अधिक कॉम्पैक्ट, शक्तिशाली, तेज और सस्ता बना दिया। इस पीढ़ी में C, C ++, DBASE जैसी प्रोग्रामिंग भाषाओं का भी उपयोग शुरू हुआ ।

चौथी पीढ़ी के कुछ लोकप्रिय कंप्यूटर –

  • DEC 10
  • पीडीपी 11
  • CRAY-1 (सुपर कंप्यूटर)
  • CRAY-X-MP (सुपर कंप्यूटर)
  • PARAM (सुपर कंप्यूटर )

Fifth Generation Computers – पांचवीं पीढ़ी के कंप्यूटर (1980 + )

पांचवीं पीढ़ी (1980-अब तक) के कंप्यूटरों में वीएलएसआई तकनीक को यूएलएसआई (अल्ट्रा लार्ज स्केल इंटीग्रेशन) – ULSI से बदल दिया गया।

ये आज के दौर के कंप्यूटरहै। ये इतने छोटे हो गए की इन्हे आप हाथ में लेके घूम सकते हैं। इन्हे हम लैपटॉप भी कहते है।

इस पीढ़ी में उपयोग की जाने वाली प्रोग्रामिंग भाषाएं C, C ++, Java, .Net आदि बहुत शक्तिशाली है और कंप्यूटर के काम करने की छमता को कई गुना बढ़ा देती है।

कंप्यूटर के जनक किसे कहते हैं ?

Charles Babbage को father of computer यानि की कंप्यूटर के जनक के रूप में जाना जाता है।

Charles Babbage को मैकेनिकल कंप्यूटर का आविष्कार करने का श्रेय दिया जाता है, जो बाद में अधिक जटिल इलेक्ट्रॉनिक डिजाइन के रूप में विकसित होते होते आज के आधुनिक कंप्यूटर का रूप लिया।

आधुनिक कंप्यूटर के सभी आवश्यक विचार बैबेज के विश्लेषणात्मक इंजन में पाए जाते हैं।

चलिए हमने कंप्यूटर का इतिहास जाना। अब जानते है इसके मुख्या पार्ट्स क्या क्या हैं।

Computer parts – कंप्यूटर के मुख्य पार्ट्स

अगर आपने कंप्यूटर देखा है तो आप इनके बारे में जरूर जानते होंगे। –

  • Input Device : इनपुट डिवाइस जिससे हम कंप्यूटर को निर्देश देते है। जैसे की कीबोर्ड (keyboard ) जिससे आप निर्देश टाइप करते हैं। या फिर माउस, जिससे आप कुछ select करते हैं।
  • Output Device : आपके निर्देशों का जो रिजल्ट ( फल ) है वो कंप्यूटर कैसे आपको दिखायेगा। वो आउटपुट डिवाइस पे दिखायेगा। और वो क्या है – मॉनिटर है ( Computer Monitor ) . या जैसे की प्रिंटर ( printer ) है
  • CPU : सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (Central Processing Unit ), कंप्यूटर का दिमाग होता है। CPU ही आपके दिए हुए निर्देशों को लेता है उसपे काम करता है
  • Storage : कंप्यूटर में डाटा कहाँ स्टोर होता है। मेमोरी (Memory ) में न ? इसे हम स्टोरेज डिवाइस भी कहते हैं

सो ये थे किसी भी कंप्यूटर के मुख्य हिस्से। ये एक दुसरे से अलग भी हो सकते है या साथ में जुड़े भी हो सकते हैं।

जैसे की लैपटॉप में मॉनिटर (Monitor ) जुड़ा हुआ है पर desktop (डेस्कटॉप ) में अलग है। अब और भी ज्यादा जानते है कम्प्यूटर के पार्ट्स के बारे में सो इन terms को भी समझते हैजो आपने सुना भी होगा

  • मोथेरबॉर्ड (Mother Board ) :
  • प्रोसेसर (Processor )
  • RAM
  • Graphics
  • Hard Disk (हार्ड डिस्क )
  • Mouse

Computer काम कैसे करता है

आपने जाना की Computer Kya hai – कंप्यूटर क्या है , अब देखते हैं की कम्प्यूटर काम कैसे करता है ?

कंप्यूटर में काम करने के ३ बड़े स्टेप्स हैं। बाकि सब कुछ इसी के अंदर आता है। ये तीन चरण है –

Input

इनपुट वो स्टेप है जिसमे आप कंप्यूटर को दो चीजें देते हैं। पहला निर्देश देतें हैं की उसे करना क्या है।

और दूसरा उसे वो सारी इनफार्मेशन भी देते हैं जिसपे उसे काम करना है। चलिए उद्धरण देके समझाता हों।

मान लीजिये आपको एक लेटर ( कोई पत्र ) प्रिंट करवाना है। तो आप क्या करेंगे – १) आप कम्प्यूटर को निर्देश देंगे की लेटर प्रिंट करना है २) आप उसे कौन सा लेटर प्रिंट करना है यह भी बताएँगे।

सो समझ में आया ? ये तो इनपुट हो गया और आप इसके लिए इनपुट डिवाइस ( जैसा ऊपर बताया गया है ) उसका इस्तेमाल करेंगे।

Process

प्रोसेस दूसरा स्टेप है। आपने कंप्यूटर को बता दिया की प्रिंट करना है और कौन सा लेटर प्रिंट करना है।

अब कंप्यूटर वो लेटर खोजेगा और उसे प्रिंटर पे भेजेगा। इन सरे काम को processing कहते है। और ये सब कौन करता है ?

आपके कंप्यूटर का CPU , जो की कंप्यूटर का दिमाग है। वही आपके निर्देश को समझता है और उसपे काम पे लग जाता है।

Output

अब भाई प्रिंटआउट तो प्रिंटर पे ही आएगा। तो प्रिंटर क्या हुआ ? आपका आउटपुट डिवाइस और इस प्रोसेस को Output कहा जाता है।

Computer कितने तरह का होता है

अब कंप्यूटर भी अलग अलग तरह के होते हैं। मै लिस्ट नीचे दे रहा हों और इनके बारे में डिटेल में किसी और दिन लिखूंगा क्योंकि यह अपने आप में बहुत बड़ा सब्जेक्ट है पर आपको एक आईडिया मिल जायेगा

  • Analogue Computer ( एनालॉग कंप्यूटर )
  • Digital Computer (डिजिटल कंप्यूटर )
  • Hybrid Computer ( डिजिटल और एनालॉग )
  • Mainframe कंप्यूटर
  • Microcomputer
  • Super Computer (सुपर कंप्यूटर )

Computer कहाँ कहाँ इस्तेमाल किया जाता है

ये पूछिए की कंप्यूटर कहाँ कहाँ इस्तेमाल नहीं होता है। शायद ऐसा कोई जगह खोजना मुश्किल है आज के युग में।

आप रेल का टिकट बुक करते हैं, कंप्यूटर का इस्तेमाल होता है।

आप बस का टिकट बुक करते हैं कम्प्यूटर का इस्तेमाल होता है।

आप इंटरनेट का इस्तेमाल करके कोई नौकरी की अर्जी भरते हैं , इंटरनेट का इस्तेमाल होता जो कंप्यूटर पे चलता है।

मतलब हर जगह आज के टाइम में कंप्यूटर का इस्तेमाल है। आइये कुछ मुख्या एरिया को देखते हैं।

Education में इस्तेमाल

आपकी साडी यूनिवर्सिटी का काम कंप्यूटर पे नहीं होता? होता है न। और तो और आज के टाइम में तो कंप्यूटर से पढाई भी करवाई जाती है।

आप घर पर बैठ कर ही अपने टीचर्स के लेक्चर सुन सकते हैं।

आप ऑनलाइन फॉर्म भरते हैं। ऑनलाइन परीक्षा देते हैं। मतलब यह है की एजुकेशन में कंप्यूटर अब अभिन्न अंग है।

Research में इस्तेमाल

क्या आज के ज़माने में रिसर्च संभव है बिना कंप्यूटर के ? आप जब बड़े बड़े रिसर्च करते हैं तो आपको कई चीजें आजकल कंप्यूटर में simulate करके देखनी होती है।

आजकल आप रिसर्च हमेशा अकेले नहीं करते। दुनिया भर के लोगो के साथ करते हैं और ये सब आपस में कंप्यूटर से जुड़े हैं

मेडिकल इंडस्ट्री में

मेडिकल की दुनिय में कंप्यूटर का बहुत बड़ा योगदान है। आज की रोबोटिक सर्जरी जैसी आधुनिक तकनीक की बिना कम्प्यूटर्स के तैयार हो पाती।

रदिओलॉजी (radiology ), रेडियो इमेजिंग, वैगरह वैगरह सब कंप्यूटर पर आधारित मशीन हैं। क्या ये सब बिना कंप्यूटर के चल पाते ?

मिलिट्री (Military )

आज के आधुनिक युग में सेना कैसे इन टेक्नोलॉजीज का इस्तेमाल न करे ? हवाई जहाज में कंप्यूटर, मिसाइल्स में कंप्यूटर , टैंक्स में कंप्यूटर।

यानि की हर जगह कंप्यूटर का इस्तेमाल।

आम बिज़नेस ( General Business )

कोई भी बिज़नेस देख लीजिये। पूरा एकाउंटिंग (accounting ) उनका कंप्यूटर पे चलता है।

आजकल बिज़नेस ग्लोबल (Global ) हो रहे हैं और दुनिया भर में सारा काम कंप्यूटर के माध्यम से करते हैं। हर इंडस्ट्री चाहे वो मैन्युफैक्चरिंग हो , या ट्रेवल में हो , टूरिज्म / होटल बिज़नेस हो यानि की कोई भी बिज़नेस हो, कंप्यूटर जरूरी है।

Communication सिस्टम

बिना कंप्यूटर के आपका मोबाइल सिस्टम / मोबाइल टावर ही काम करना बंद कर देगा। यानि की कंप्यूटर हमारे जीवन का एक ऐसा हिस्सा बन गया है आज की आप इससे दूर नहीं रह सकते।

Computer से सम्बंधित पढाई कैसे कर सकते हैं ?

Computer Kya hai और इसमें पढाई कैसे करें? अगर कंप्यूटर ने आपको काफी प्रभावित किया और अगर आप इस छेत्र में या आपके बच्चे इस छेत्र में पढाई करना चाहते है तो ये बहुत ही अछि सोच है क्योंकि इस छेत्र में काफी नौकरिया है और इस छेत्र में नौकरिया बढ़ती ही रहेंगी। सो आपने बच्चों को आप इस तरफ मोड़ सकते हैं।

आजकल तो स्कूल से ही कंप्यूटर की पढाई शुरू हो जाती है और आप उन्हें आगे पढ़ा सकते हैं। जैसे

  • BSC (Computer Science) / BSC (IT)
  • BCA
  • BTECH / BE (Computer Science)
  • BTECH / BE (Computer Engineering)
  • BTECH / BE ( IT)

और इसमें आप या आपके के बच्चे मास्टर डिग्री और PHD भी कर सकते हैं।

अगर आपको इन सब कोर्सेज में अंतर जानना है तो ये एक अच्छा पोस्ट है जो आप देख सकते हैं.

Difference between BTECH (CS/IT), BCA and BSC (CS/IT)

ज्यादा जानकारी के लिए इन्हे भी देख सकते हैं – टॉप आईटी स्किल्स

Computer में नौकरी ( Jobs in computer )

जैसा मैंने पहले कहा की इस फील्ड में नौकरिया बहुत है और बढ़ती ही जा रही है। कंप्यूटर का इस्तेमाल काम तो होने नहीं वाला और इसलिए इस फील्ड में नौकरिया भी काम नहीं होंगी।

सरकारी और गैर सरकारी , दोनों ही छेत्रों में नौकरियां है।

Computer का भविष्य

यह ये लगातार उभरता हुआ विषय है और इसलिए इसका भविष्य उज्जवल है। इसमें आजकल नए नए आयाम आ रहे हैं जैसे आजकल आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस ( AI), Machine Learning , Natural Language Processing इन सबका जमाना है। सो नयी नयी चीजें अति रहती है और इसलिए इस फील्ड में स्कोप हमेशा बना रहेगा

How to make money online – read our blogs in hindi


निष्कर्ष

अपने इस आर्टिकल के जरिये हमने बहुत सरल भाषा में “Computer Kya hai – कंप्यूटर क्या है ” इस सवाल का जवाब देने की कोशिश की है। और हमने उसके इतिहास को जाना और इसका भविष्य क्या है ये भी समझने की कोशिश की. आपको ये लेख पसंद आय ऐसा उम्मीद है। कंप्यूटर

 1,445 total views,  2 views today

Lata

Hello Friends, Thank you for stopping by at a2zHindiInfo.com। आपकी तरह मुझे भी current affairs और General Knowledge बहुत पसंद है और आज के ज़माने में अपने आस पास जो हो रहा है उससे अपने आप को अपडेटेड रखना भी बहुत जरूरी है । मैंने जो भी ज्ञान हासिल किया है उसे मै सबके साथ शेयर करना चाहती हूं और मेरा ये ब्लॉग उसी दिशा में एक कदम है। अगर आपका कोई सुझाव है इस वेबसाइट को लेके या कोई शिकायत है तो हमें जरूर लिक भेजें। हमारा ईमेल हैं contact@a2zhindiinfo.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *