हरिद्वार कुंभ मेला 2021

हरिद्वार कुंभ मेला 2021 – Haridwar Kumbh Mela 2021

Dharm Sansar Travel

दोस्तों क्या आप हरिद्वार कुंभ मेला 2021 ( Haridwar Kumbh Mela 2021) में जाने का सोच रहे हैं। तो नीचे दी गयी जानकारी आपके लिए फायदेमंद होगी।

कुंभ मेला ( Haridwar Kumbh Mela 2021 / हरिद्वार कुंभ मेला 2021 ) दुनिया भर के हिन्दुओं के लिए एक पवित्र अवसर है।

हरिद्वार में आखिरी कुंभ 2012 में आयोजित किया गया था और इसे 2022 में आयोजित किया जाना था, लेकिन बाद में इनका समय बदल के 2021 किया गया ।

100 साल में ऐसा पहली बार हुआ है। यह शुभ तिथियों की गणना के कारण हुआ न कि कोरोना के कारण।

Haridwar Kumbh Mela 2021 Dates- हरिद्वार कुंभ मेला 2021

हरिद्वार में कुंभ 14 जनवरी से शुरू है, लेकिन पहला शाही स्नान 26 मार्च 2021 को होने वाला है और 26 मई तक चलेगा।

हालांकि भारत में हरिद्वार, इलाहाबाद, उज्जैन और नासिक में चार स्थानों पर कुंभ आयोजित किए जाते हैं। इस साल यह हरिद्वार में हो रहा है।

14/01/21 मकर संक्रांति स्नान
11/02/21 मौनी अमावस्या स्नान
16/02/21 बसंत पंचमी स्नान
27/02/21 माघी पूर्णिमा स्नान
11/03/21 महा शिवरात्रि शाही स्नान
12/04/21 सोमवती अमावस्या शाही स्नान
13/04/21 चैत्र शुक्लप्रतिपदा स्नान
14/04/21 बैसाखी शाहीस्नान
21/04/21 राम नवमी स्नान
27/04/21 चैत्र पूर्णिमा शाही स्नान

पंजीकरण पहले से कराना बहुत आवश्यक होगा /

Kumbh Mela kisne shuru kiya ? कुंभ मेले की शुरुआत किसने की?

18 वीं शताब्दी में, एक मराठा शासक जिसे रानोजी शिंदे के नाम से जाना जाता है, ने इस पवित्र त्योहार की शुरुआत की।

यह शुरुआत में एक स्थानीय त्योहार था। उन्होंने नासिक से उज्जैन में तपस्वियों को आमंत्रित किया था।

यह हिंदू धर्म को बढ़ाने और सभी धार्मिक लोगों को एक स्थान पर एकजुट करने के लिए मनाया गया ताकि वे एक दूसरे से बेहतर तरीके से मिल सकें और समझ सकें।

Kumbh Mela ki pauranik katha ? कुंभ मेले के पीछे क्या पौराणिक कथा है?

कुंभ शब्द pot या घड़े से लिया गया है। यह इस मामले में समुद्र मंथन के समय के अमृत के घड़े से संबंधित है।

यह अमृत का पात्र है जो मनुष्य को अमर बना सकता है और उसके सभी पापों को दूर कर सकता है।

यह जीवन का अमृत है । समुद्र मंथन पर, इस अमृत का कुछ अंश गिरा था। ऐसा माना जाता है कि हरिद्वार में भी यह गिरा था।

तो इस शुभ मुहूर्त में पवित्र नदी में डुबकी लगाने से माना जाता है कि सभी पाप दूर हो जाते हैं और आपकी आत्मा को पवित्र हो जाती है।

कुंभ मेले में किस भगवान की पूजा की जाती है?

समुद्र मंथन के दौरान सबसे पहले विष निकला। इस संसार के सभी प्राणियों को बचाने के लिए भगवान शिव ने इस विष को पी लिया ।

उन्हें इस कारण नील कंठ के नाम से जाना जाता है। अगर भगवान शिव ने विष का घड़ा खत्म नहीं किया होता, तो अमृत का कोई बर्तन नहीं होता।

कुम्भ में अखाड़ा भगवान शिव की पूजा करता है, हालांकि कुछ भगवान विष्णु की भी पूजा करते हैं।

पहला कुंभ मेला किस वर्ष में आयोजित किया गया था?

पहला कुंभ मेला वर्ष 1870 में इलाहाबाद में मनाया गया था।

Meaning of the word Kumbh? कुंभ शब्द का अर्थ क्या है?

इस शब्द के विभिन्न अर्थ हैं। लेकिन हिंदू, जैन और बौद्ध संदर्भ में इसका मतलब घड़ा या गर्भ है।

यह मनुष्यों के जीवन, प्रजनन क्षमता और जीविका या शुद्धता का प्रतिनिधित्व करने के लिए जाना जाता है।

COVID स्थिति के कारण प्रतिबंध?

Haridwar Kumbh Mela 2021 ( हरिद्वार कुंभ मेला 2021 ) में मौजूदा स्थिति में तमाम तरह की बंदिशें हैं।

हालांकि कुंभ एक मेला है, जहां सभी को उपस्थित होने की अनुमति दी जाती है, इस वर्ष यह अलग होगा।

पिछले वर्षों की तरह, एक ही समय में एक स्थान पर भक्तों की भारी संख्या में भीड़ की उम्मीद है। इसलिए सरकार प्रत्येक दिन भक्तों की संख्या को सीमित करने के विचार कर रही है।

भक्तों को पास जारी किये जायेंगे । उन्हें पहले से पंजीकरण करना होगा ताकि संख्याओं को नियंत्रित किया जा सके और कोई अराजकता न हो।

यह दुनिया की सबसे बड़ी सभा है। इसलिए कठिन \कोरोना समय में कई सावधानियां बरतनी जरूरी होंगी

घाटों का कलर कोडिंग हो सकता है। इसमें निर्दिष्ट मार्ग और तीर्थ विश्राम गृह होंगे। भक्तों को अपने द्वारा प्राप्त किए गए पासों के अनुसार निर्धारित फाटकों और विश्राम स्थलों पे जाना होगा।

भीड़ को नियंत्रित करने और अधिकतम लोगों को भीड़भाड़ के बिना पवित्र डुबकी लेने की अनुमति देने के लिए प्रत्येक व्यक्ति को केवल 15 मिनट का समय स्लॉट दिया जाएगा।

क्षेत्र की स्वच्छता पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। क्षेत्र को यथासंभव स्वच्छ रखा जाएगा ताकि रोग का न्यूनतम प्रसार हो।

Haridwar Kumbh Mela 2021 – हरिद्वार कुंभ मेला 2021 दिशानिर्देशों का पालन

कुंभ मेले में जाने के इच्छुक सभी लोगों को पंजीकरण कराना होगा। उन्हें एक चिकित्सा प्रमाण पत्र प्रस्तुत करने की भी आवश्यकता होगी।

पंजीकरण उत्तराखंड सरकार के साथ किया जाना है। चिकित्सा प्रमाण पत्र एक स्थानीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र या एक सरकारी चिकित्सा अस्पताल से प्राप्त किया जाना है।

विदेश से आने वाले भक्तों को अतिरिक्त सावधानी बरतने की आवश्यकता होगी। सरकार कोशिश कर रही है कि कुंभ मेले से पहले जितने लोगों को टीका लगाया जाए, खासतौर पर मेले के दौरान वे ड्यूटी पर रहें।

Haridwar kumbh mela 2021 official website

हरिद्वार कुंभ मेला 2021 के लिए कृपया नीचे दी गई आधिकारिक वेबसाइट देखें

click here for haridwarkumbhmela2021 website

आप उत्तराखंड पर्यटन वेबसाइट पर भी जा सकते हैं

click here

आधिकारिक वेबसाइट https://www.haridwarkumbhmela2021.com/

https://uttarakhandtourism.gov.in/

हरिद्वार कुंभ मेला 2021 Haridwar Kumbh Mela 2021 – स्नान की जगह

Har ki Pauri ( हरी की पौड़ी ) Subhash Ghat ( सुभाष घाट )
Gau Ghat ( गौ घाट ) VIP Ghat ( VIP घाट )
Vishnu Ghat ( विष्णु घाट ) Ram Ghat ( राम घाट )
Kusha Ghat ( कुशा घाट )

Haridwar kumbh mela 2021 registration portal

आप https://www.haridwarkumbhmela2021.com/ पर जा सकते हैं और पंजीकरण पर क्लिक कर सकते हैं या सीधे लिंक पर जा सकते हैं – https://dsclservices.org.in/kumbh/

Haridwar Kumbh Mela 2021 Registration Process हरिद्वार कुंभ मेला 2021 पंजीकरण प्रक्रिया

  • हरिद्वार कुंभ मेला 2021 की आधिकारिक वेबसाइट www.haridwarkumbhmela2021.com पर जाएं।
  • मुख्य पृष्ठ पर पंजीकरण विकल्प पर क्लिक करें।
  • एक पंजीकरण पृष्ठ खुलेगा – अपने सभी विवरण जैसे नाम, आयु, पता, मोबाइल नंबर आदि भरें।
  • भरी गई सूचनाओं को दोबारा देखें ताकि कोई त्रुटि न हो
  • पेज सबमिट करें। आपके द्वारा प्रदान किए गए मोबाइल नंबर और ईमेल पते पर आपको पावती मिल जाएगी
  • एक बार पंजीकरण हो जाने के बाद आप बुकिंग कर पाएंगे,
हरिद्वार कुंभ मेला 2021 - Haridwar Kumbh Mela 2021
हरिद्वार कुंभ मेला 2021 - Haridwar Kumbh Mela 2021

सारांश

Haridwar Kumbh Mela 2021 / हरिद्वार कुंभ मेला 2021 सभी हिंदुओं के लिए एक शुभ समय है।

सभी भक्तों को पंजीकरण की आवश्यकता है। सरकार सभी आवश्यक कदम उठा रही है, लेकिन हम व्यक्तिगत भक्तों से सहयोग करने का अनुरोध करते हैं।

उन्हें व्यक्तिगत स्तर पर भी सावधानी बरतनी चाहिए। दूरी बनाए रखें और स्वच्छता बनाए रखें। जहां तक हो सके मास्क लगाएं। खुले में खाना न खाएं। कोशिश करें और भीड़ से बचने के लिए सरकार द्वारा सुझाए गए रूटीन और रूट को बनाए रखें।

जो भी कुंभ मेले में जाने की योजना बना रहा है, उसे सबसे अच्छा स्लॉट प्राप्त करने के लिए पहले से पंजीकरण करना होगा।

इसके अलावा, अपने समूह के सभी सदस्यों को एक साथ पंजीकृत करना याद रखें ताकि आपको उसी समय आवंटित किया जा सके।


हरिद्वार कुंभ मेला 2021 – Haridwar Kumbh Mela 2021 FAQ

हरिद्वार कुंभ मेला 2021 कब शुरू होगा ?

हरिद्वार कुंभ मेला 2021 १४ जनवरी , मकर संक्रांति के दिन शुरू होगा।

हरिद्वार कुंभ मेला 2021 किस दिन समाप्त होगा ?

हरिद्वार कुंभ मेला 2021 २७ अप्रैल २०२१, राम नवमी के दिन समाप्त होगा।

क्या अग्रिम पंजीकरण जरूर है ?

जी हाँ इस कुम्भ में आज के समय में अग्रिम पंजीकरण बहुत जरूरी है। आप हमारे ववेबसाइट पे पंजीकरण लिंक पा सकते हैं।

सबसे पहला कुम्भ कब आयोजित किया गया था ?

सबसे पहला कुम्भ १८७० में प्रयागराज (इलाहाबाद) में आयोजित किया गया था।


आप यह भी [असंद करेंगे – भगवान शिव के १२ ज्योतिर्लिंग


 156 total views,  1 views today

Lata

Hello Friends, Thank you for stopping by at a2zHindiInfo.com। आपकी तरह मुझे भी current affairs और General Knowledge बहुत पसंद है और आज के ज़माने में अपने आस पास जो हो रहा है उससे अपने आप को अपडेटेड रखना भी बहुत जरूरी है । मैंने जो भी ज्ञान हासिल किया है उसे मै सबके साथ शेयर करना चाहती हूं और मेरा ये ब्लॉग उसी दिशा में एक कदम है। अगर आपका कोई सुझाव है इस वेबसाइट को लेके या कोई शिकायत है तो हमें जरूर लिक भेजें। हमारा ईमेल हैं contact@a2zhindiinfo.com

1 thought on “हरिद्वार कुंभ मेला 2021 – Haridwar Kumbh Mela 2021

  1. मुझे यहां रहना पसंद है। मुझे आपका लिखना पसंद है। उत्तम!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *