आरटीजीएस (RTGS) क्या है और कैसे काम करता है ? What is RTGS in Hindi

RTGS क्या है और कैसे काम करता है ? What is RTGS in Hindi

Full form General Gyan

RTGS क्या है और कैसे काम करता है ? – अगर आप पैसे का लेनदेन करते है तो RTGS एक बहुत ही बढ़िया तरीका है किसी को वैसे ट्रांसफर करने का। आइये इस पोस्ट में हम जानेंगे की RTGS क्या है और वो कैसे काम करता है ?

वैसे तो आजकल इंटरनेट के ज़माने में बहुत से तरीके हैं जिससे आप किसी को पैसा भेज सकते हैं। NEFT, IMPS आदि कई तरीको से भी आप पैसे ट्रान्सफर कर सकते है। हर तरीके का अपना फायदा है। आज हम आरटीजीएस (RTGS) के बारे में जानेंगे।

अगर आपको पता न हो तो बता दें की NEFT में आपके पैसे रियल टाइम में ट्रान्सफर नहीं होते है इसमें कुछ टाइम लग सकता है मगर RTGS में पैसे रियल टाइम में ट्रान्सफर हो जाते।

और एक बात और , आप RTGS की सहायता से बड़ी रकम को एक अकाउंट से दुसरे अकाउंट में पैसे ट्रान्सफर कर सकते है और यह आप बैंक में जाकर या फिर ऑनलाइन भी कर सकते है।

सो आईये जानते है बिस्तर से RTGS के बारे में ।

RTGS क्या है? What is RTGS ?

RTGS का पूरा नाम Real Time Gross Settlement है।

इस तरीके से आप पैसे को बहुत तेजी के साथ भेज सकते है। लेकिन कम से कम २००००० रूपये आपको ट्रासंफर करने पड़ेंगे अगर आप इस व्यवस्ता का इस्तेमॉल करना चाहते है। अधिकतम कितना भी हो सकता है।

RTGS का इस्तेमाल आप 2 तरीको से कर सकते है एक ऑनलाइन ( घर बैठ कर ) और दूसरा ऑफलाइन ( बैंक जाकर ) इन दोनों तरीको के बारे में जानते है ।

Online तरीका क्या है ?

इस तरीके में आप इन्टरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल करके RTGS से पैसा ट्रांसफर कर सकते है।

इसमें करना क्या होता है ? तो सबसे पहले तो जिसे पैसा ट्रांसफर करना है उसका अकाउंट नंबर और उसके बैंक का IFSC कोड ले लो।

फिर उसको अपने अकाउंट में लॉगिन करके बेनेफिशेरी के रूप में जोड़ना होगा उसके बाद ही उससे आप ऑनलाइन RTGS कर सकते है। और यह करने के लिए आपको उसका अकाउंट नंबर और उसके बैंक का IFSC कोड चाहिए।

एक बार आपने उसको अपने अकाउंट में जोड़ लिया फिर कुछ समय बाद आप उसे पैसा ट्रांसफर कर सकते हैं।

आप इसी तरीके से और भी लोगों को बेनेफिशेरी के रूप में ऐड करके पैसे भेज सकते है।

बस ध्यान रखिये इसके लिए इन्टरनेट बैंकिंग होना बहुत जरुरी है ।

Offline तरीका क्या है ?

मान लीजिये आपके पास ऑनलाइन बैंकिंग नहीं है तो आप RTGS का इस्तेमाल कैसे करें ?

इसके लिए आपको अपने बैंक में जा कर एक स्लिप भरना होगा। यह स्लिप आपको बैंक में ही मिल जायेगा।

आपको RTGS स्लिप भरके बैंक में जमा करवाना होगा।

एक बार आपने यह स्लिप अपने बैंक में दे दिया तो बैंक आपके अकाउंट से पैसा निकाल के वो जिसे आपको पैसा ट्रांसफर करना है उसे पैसा भेज देगी।

इस तरीके से आप Offline तरीके से भी RTGS कर सकते है और किसी को भी पैसे भेज सकते है ।

RTGS Transaction  के Fees और Charges क्या क्या है ?

इस पर्क्रिया मेंआप जिसे पैसा भेज रहे हैं , उसे कोई फीस नहीं देनी पड़ती है। हाँ जो ट्रासंफर कर रहा है उसे कुछ लगता है !

Amount RTGS Fees
Rs.2 लाख से 5 लाख तक Rs.30 per Transaction
Rs.5 लाख से उपर Rs.55 per Transaction

RTGS करने की Timing

ओपन होने का समय 7:00 AM
प्रारंभिक कट-ऑफ (ग्राहक लेनदेन) 6:00 PM
अंतिम कट-ऑफ (इंटर बैंक लेनदेन) 7:45 PM
इंट्रा-डे तरलता (आईडीएल) उलट 7:45 PM to 8:00 PM
क्लोज होने का टाइम 8:00 PM

RTGS की कुछ विशेष बाते 

  • इसमें रियल टाइम में ऑनलाइन फण्ड ट्रान्सफर किया जाता है । यानि की पैसा तुरंत ट्रांसफर होता है !
  • बड़ी रकम को ट्रांसफर करने के लिए आप इसका इस्तेमाल करें । आप कम से कम २००००० और अधिकतम कोई सीमा नहीं !
  • बहुत ही सेफ और सिक्योर सिस्टम है ये !
  • इसमें Fund को One-on-One बेसिस पे  क्रेडिट किया जाता है ।
  • आप कम से कम २००००० और अधिकतम कोई सीमा नहीं !
  • RBI की निगरानी में रहता है यह सिस्टम
  • इसमें Transaction को Indivisual और Gross बेसिस पर Execute किया जाता है

NEFT और RTGS में अंतर

NEFT RTGS
इसमें Transaction  को Batchs में  सेटल किया जाता है । इसमें  Transaction  को Indivisual सेटल किया जाता है ।
इसका इस्तेमाल मुख्यत लोअर और मिडिल रेंज के Transaction को सेटल करके के लिए किया जाता है । इसमें High वैल्यू के Transaction   को सेटल करने के लिए किया जाता है ।
इसमें पैसे सेंड करने की कोई लिमिट नहीं है इसमें आप 1 रुपये से जिनते चाहे उतने पैसे भेज सकते है । इसमें 2 लाख रु. से कम आप ट्रान्सफर नहीं कर सकते हैं  और आप मैक्सिमम जितने चाहे भेज सकते है ।
इसमें Transaction  को सेटल होने में कुछ घंटे लगते है ।   इसमें Transaction  रियल टाइम में सेटल हो जाता है ।

Frequently Asked Questions

RTGS का पूर्ण रूप क्या है?

‘RTGS’, Real Time Gross Settlement का संक्षिप्त नाम है

RTGS का टेक्निकल डेफिनेशन क्या है ?

‘RTGS’, Real Time Gross Settlement का संक्षिप्त नाम है, जिसे आदेश दर आदेश आधार पर निधियों के पृथक-पृथक रूप से (नेटिंग के बिना) निरंतर (वास्तविक समय) निपटारे के रूप में परिभाषित किया जा सकता है।

NEFT और RTGS में क्या अंतर है ?

EFT में पैसे ट्रान्सफर कुछ घंटे बाद होता है यानी इस प्रक्रिया में कुछ घंटो का समय लगता है जबकि आरटीजीएस में पैसे का ट्रान्सफर तुरंत हो जाता है इसके अलावा NEFT में पैसे ट्रान्सफर की टाइमिंग सुबह 8 बजे से लेकर शाम के 7 बजे तक होती है वहीं RTGS में पैसे ट्रान्सफर की टाइमिंग सुबह 8 बजे से लेकर शाम के 4:30 बजे तक की होती

RTGS द्वारा कितना पैसा ट्रांसफर कर सकते हैं?

कम से कम २ लाख अगर ट्रांसफर करना है तो RTGS का इस्तेमाल कर सकते हैं। वैसे तो कोई अपर लिमिट नहीं है। फिर भी अपने बैंक से एक बार कन्फर्म कर लें .

RTGS ( आरटीजीएस ) कैसे किया जाता है?

RTGS आप दो तरीके से कर सकते हैं।
पहला तरीका ऑनलाइन का है। इसमें आपके पास ऑनलाइन बैंकिंग की सुविधा होनी चाहिए। फिर आप अपने ऑनलाइन खाते से पैसा ट्रासंफर कर सकते हैं।
दूसरा तरीका ऑफलाइन है। जिसमे आप को बैंक में जाके RTGS स्लिप भरना होता है और फिर बैंक आपके अकाउंट से पैसा निकल के जहाँ ट्रांसफर करना है वहां ट्रांसफर कर देता है।


NEFT – NEFT full form – NEFT Kya hai – NEFT कैसे करते हैं

 334 total views,  3 views today

Lata

Hello Friends, Thank you for stopping by at a2zHindiInfo.com। आपकी तरह मुझे भी current affairs और General Knowledge बहुत पसंद है और आज के ज़माने में अपने आस पास जो हो रहा है उससे अपने आप को अपडेटेड रखना भी बहुत जरूरी है । मैंने जो भी ज्ञान हासिल किया है उसे मै सबके साथ शेयर करना चाहती हूं और मेरा ये ब्लॉग उसी दिशा में एक कदम है। अगर आपका कोई सुझाव है इस वेबसाइट को लेके या कोई शिकायत है तो हमें जरूर लिक भेजें। हमारा ईमेल हैं contact@a2zhindiinfo.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *