Shri Dwarkadhish Mandir

श्री द्वारकाधीश मंदिर ( Dwarikadhish Mandir )

Dharm Sansar Travel

दोस्तों आज हम आपको श्री श्री द्वारकाधीश मंदिर ( Dwarikadhish Mandir ) के बारे में बताएँगे। द्वारका शहर का मुख्य आकर्षण है श्री द्वारिकाधीश मंदिर है जो भगवान श्री कृष्ण को समर्पित है।

श्री द्वारकाधीश मंदिर ( Dwarikadhish Mandir ) 2500 साल से अधिक पुराना है। मंदिर एक छोटी पहाड़ी की चोटी पर स्थित है, जिसे वहाँ पहुँचने के लिए 50 सीढ़ियाँ चढ़नी पड़ती हैं।

इस मंदिर के बारे में एक और प्रभावशाली चीज जो आपको अपनी ओर आकर्षित करती है वह है इस मंदिर पे फहराता हुआ झंडा, जो 52 गज के कपड़े से बना है।

मंदिर में प्रवेश करने और बाहर निकलने के दो मुख्य दरवाजे हैं। उन्हें खूबसूरती से स्वार्ग और मोक्ष द्वार के रूप में नामित किया गया है।

यह मंदिर चार धाम यात्रा तीर्थयात्रियों में से है, जो सभी हिंदुओं के लिए एक विशेष स्थान रखते हैं। अन्य तीन चार धाम मंदिर – बद्रीनाथ, जगन्नाथ और रामेश्वरम में हैं।

यह शहर भगवान कृष्ण द्वारा बृज भूमि से आने के बाद बनाया गया माना जाता है। यह भी माना जाता है कि भूमि समुद्र के नीचे थी। और इसे अलग से बसाया गया था।

श्री द्वारकाधीश मंदिर ( Dwarikadhish Mandir ) के बारे में मुख्या बातें।

मंदिर को जगत मंदिर के नाम से जाना जाता है। यह भगवान श्री कृष्ण को समर्पित है और उनके परपौत्र वज्र नाभा द्वारा बनाया गया था।

उसने इसे उस भूमि पर बनाया था जो समुद्र से प्राप्त हुई थी। वास्तुकला चालुक्य शैली पर आधारित है। शहर को महाभारत काल का माना गया है ।

मंदिर पांच मंजिला है और केवल चूना पत्थर और रेत से बना है। जटिल मूर्तियां हैं और कारीगरों की सुंदरता देखी जा सकती है।

भगवान कृष्ण की मुख्य मूर्ति काले पत्थर से बनी है। मंदिर परिसर में, अन्य मंदिर भी हैं। ये कई अन्य लोगों जैसे देवी सुभद्रा, श्री वासुदेव, देवी रुक्मिणी और श्री बलराम जी को समर्पित हैं।

अनुष्ठान के रूप में, भक्त मंदिर में प्रवेश करने से पहले पवित्र गोमती नदी में डुबकी लगाते हैं।

जन्माष्टमी पर्व हर्ष और उत्साह के साथ मनाया जाता है। इस समय लाखों भक्त उस दिन मंदिर का चक्कर लगाते हैं। पूरे दिन प्रार्थना और अनुष्ठान होते हैं।

श्री द्वारकाधीश मंदिर ( Dwarikadhish Mandir ) का इतिहास

मंदिर के पीछे की कहानी बहुत ही रोचक है। माना जाता है कि इस मंदिर का निर्माण वज्रनाभ , भगवान कृष्ण के पोते द्वारा किया गया था।

मंदिर को द्वारिकाधीश मंदिर कहते हैं , अर्थात् द्वारका के स्वामी भगवन श्री कृष्णा ।

यह मंदिर चार धाम यात्रा में चार प्रमुख तीर्थयात्रियों में से एक है। मंदिर भगवान विष्णु से संबंधित 108 दिव्य देशमों में से एक है, जिसका उल्लेख पुराने ग्रंथों जैसे कि दिव्य प्रभांड में किया गया है।

भगवान द्वारिकाधीश की मूर्ति से संबंधित पौराणिक कथा

  • माना जाता है कि मंदिर की पहली मूर्ति की देवी रुक्मिणी ने खुद पूजा की थी। इस मूर्ति को आक्रमणकारियों के हाथों से बचाने के लिए निकाल लिया गया था और एक दूसरी मूर्ति की स्थापना की गयी थी।
  • बदाना नाम के एक भक्त रोज इस मूर्ती के दर्शन करने आती थी । वह अपनी भक्ति में इतनी पवित्र थी कि भगवान शिर कृष्णा ( द्वारिकाधीश ) उससे अति प्रसन्न हुए । उन्होंने उसे मूर्ति को डाकोर, ले जाने की अनुमति दी। उस वक़्त वहां के पुजारी ने उसका रास्ता रोका । फिर बदाना ने मूर्ती के बराबर वजन का सोना भुगतान करने की पेशकश की। भगवान कृष्ण ने एक चमत्कार दिखाया और पूरी मूर्ति एक छोटी अंगूठी के बराबर हलकी हो गयी । और बदाना को सोने की छोटी अंगूठी ही देनी पड़ी।
  • अब हम जो मूर्ति देखते हैं, वह पास के सावित्री तालाव में मिली थी। ऐसा कहा जाता है कि मूर्ति की आंखें गायब थीं लेकिन अन्य सभी श्रृंगार सुरक्षित थे।

श्री द्वारकाधीश मंदिर ( Dwarikadhish Mandir ) की वास्तुकला

इस मंदिर को बनाने में चूना पत्थर और रेत का इस्तेमाल किया गया है। मंदिर पांच मंजिला लंबा है। सभी में 72 खंभे हैं। इन सभी पर गहनता से नक्काशी की गई है।

शिखर 78.3 मीटर ऊंचा है। शीर्ष पर शिकारा 42 मीटर ऊँचा है और 52 गज कपड़े से बना एक झंडा है। इस ध्वज में सूर्य और चंद्रमा अंकित हैं जो कि भगवान कृष्ण के शासनकाल के प्रतीक हैं जब तक सूर्य और चंद्रमा मौजूद रहेंगे भगवान श्री कृष्ण का यह ध्वज यूँ ही लहराता रहेगा ।

मंदिर के 2 मुख्य द्वार हैं। एक प्रवेश के लिए और दूसरा बाहर निकलने के लिए। प्रवेश द्वार को स्वर्ग द्वार और निकास द्वार को मोक्ष द्वार के नाम से जाना जाता है। मंदिर के दक्षिण की ओर, 56 सीढ़ियाँ हैं जो गोमती नदी तक ले जाती हैं।

श्री द्वारिकाधीश कब जाएं ( Best time to visit Dwarka )

हालांकि भक्त पूरे साल मंदिर के दर्शन कर सकते हैं। श्री श्री द्वारकाधीश मंदिर ( Dwarikadhish Mandir ) में पूरे साल भक्तों की भीड़ रहती है ।

पर अक्टूबर से मार्च तक सुखद मौसम होता है। यदि आप जन्माष्टमी के अवसर पर मंदिर जाने के इच्छुक हैं तो आपको सितंबर के महीने में जाना चाहिए और बहुत पहले से इसका प्लान करना चाहिए क्योंकि बहुत भीड़ होती है।

श्री द्वारकाधीश मंदिर ( Dwarikadhish Mandir ) खुलने का समय – Dwarikadhish temple timings

मंदिर दर्शन के लिए सुबह ६.३० पे खुलता है और दोपहर १ बजे तक खुला रहता है।

उसके बाद ५ बजे तक मंदिर बंद कर दिया जाता है।

मंदिर फिर से शाम ५ बजे से रात के ९.३० बजे तक दर्शन के लिए खुला रहता है।

आप द्वारका कैसे पहुंच सकते हैं ( How to reach Dwarka )

आप नजदीकी शहरों से सड़क मार्ग से जा सकते हैं, क्षेत्र में अच्छे राजमार्ग हैं।

यदि आप ट्रेन से जाना चाहते हैं, तो निकटतम स्टेशन अहमदाबाद होगा, और फिर आपको कैब या बस लेनी होगी। पब्लिक ट्रांसपोर्ट काफी अच्छा है।

जो लोग हवाई मार्ग से जाना चाहते हैं, उनके लिए निकटतम हवाई अड्डा राजकोट है, यहाँ से टैक्सी या बस ले सकते हैं श्री द्वारकाधीश पहुँचने के लिए। साधन अच्छा है और आराम से मिल जाता है।

Dwarikadhish temple official website ( श्री द्वारकाधीश मंदिर आधिकारिक वेबसाइट )

आप नीचे दिए लिंक पे क्लिक कर सकते हैं।

https://devbhumidwarka.nic.in/

https://devbhumidwarka.nic.in/tourist-place/dwarkadhish-temple/

Dwarka Temple Contact Number

इसके लिए कृपया ऊपर दिए हुए लिंक पे क्लिक करे।

द्वारका में देखने के लिए अन्य जगहें

द्वारका बीच, जहां आप सूर्यास्त का आनंद ले सकते हैं और प्रवाल भित्तियों को देख सकते हैं।

बेट द्वारका – यह मुख्य शहर से 30 किमी दूर है। यहां वाटर स्पोर्ट्स और डॉल्फिन स्पोटिंग गतिविधियां हैं। कई समुद्री खेलों के साथ-साथ कोशिश की जानी चाहिए, बच्चे इस जगह की यात्रा का आनंद लेते हैं।

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर भारत के 12 मुख्य ज्योतिर्लिंगों में से एक है। यह भगवान शिव को समर्पित है। ऐसा माना जाता है कि जो लोग यहां पूजा करते हैं, वे जहर से मुक्त हो जाते हैं।


बद्रीनाथ धाम के बारे में भी पढ़िए : यहाँ क्लिक करें


 580 total views,  2 views today

Lata

Hello Friends, Thank you for stopping by at a2zHindiInfo.com। आपकी तरह मुझे भी current affairs और General Knowledge बहुत पसंद है और आज के ज़माने में अपने आस पास जो हो रहा है उससे अपने आप को अपडेटेड रखना भी बहुत जरूरी है । मैंने जो भी ज्ञान हासिल किया है उसे मै सबके साथ शेयर करना चाहती हूं और मेरा ये ब्लॉग उसी दिशा में एक कदम है। अगर आपका कोई सुझाव है इस वेबसाइट को लेके या कोई शिकायत है तो हमें जरूर लिक भेजें। हमारा ईमेल हैं contact@a2zhindiinfo.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *