Somnath Mandir

Somnath Mandir – सोमनाथ मंदिर – भगवान शिव के पवित्र बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक

Dharm Sansar Travel

Somnath Mandir – सोमनाथ मंदिर भगवान शिव के पवित्र बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है। यह मंदिर गुजरात राज्य में प्रभास पाटन शहर में स्थित है। यह भारत में मौजूद सबसे पुराने मंदिरों में से एक माना जाता है।

सोमनाथ मंदिर (Somnath Mandir) का उल्लेख भागवत गीता, ऋग्वेद, शिवपुराण, स्कंदपुराण आदि के प्राचीन शिलालेखों और ग्रंथों में मिलता है।

इमेज सोर्स

यह मंदिर हिंदू धर्म में सदियों से इन ग्रंथों में तीर्थ के रूप में एक विशेष स्थान रखता है। इस मंदिर के निर्माण का स्थान तीन नदियों के संगम पर है, जिसे कपिला, सरस्वती, और हिरन के त्रिवेणी संगम के रूप में जाना जाता है।

सोमनाथ मंदिर संक्षिप्त जानकारी – Somnath Mandir Brief Information

सोमनाथ मंदिर शहद के रंग का है और इसकी शानदार संरचना के कारण दूर से देखा जा सकता है।

यह माना जाता है कि भगवान शिव यहां प्रकाश के एक उग्र स्तंभ के रूप में प्रकट हुए थे। अरब सागर की लहरें इस मंदिर के पैर छूने आती हैं और पवित्र हो जाती हैं।

649 ईसा पूर्व पाए जाने से पहले ही इस मंदिर की आयु का सही मूल्यांकन नहीं किया गया है। मंदिर ने समय के साथ-साथ अपनी स्थिति मजबूत की है।

मंदिर को नष्ट करने का प्रयास मुगल शासकों द्वारा कई बार किया गया था। ऐसा माना जाता है कि मोहम्मद गजनी, अलाउद्दीन खिलजी और औरंगजेब द्वारा कुल 17 हमले किए गए थे। हर बार उन्हें कुछ सोना मिला।

Somnath Mandir ka itihas – Somnath Temple History

कहा जाता है कि मंदिर मूल रूप से भगवान चन्द्रमा द्वारा बनाया गया था।

माना जाता है कि यह उस समय सोने से बना होगा। बाद में इसे रावण द्वारा चांदी का बनवाया और फिर भगवान श्री कृष्ण ने इसे लकड़ी का बनवाया और उसके बाद इसे भीमदेव द्वारा पत्थर में बनाया गया।

Somnath Mandir का जीर्णोद्धार / Restoration of the temple

वर्तमान समय की संरचना और परिसर वह है जिसे वर्ष 1951 में विरासत स्थल के जीर्णोद्धार कार्य के तहत दोबारा बनाया गया था।

सरदार वल्लभभाई पटेल वह व्यक्ति थे जिन्होंने इस पवित्र मंदिर के पुनर्निर्माण और पुनरुद्धार का काम शुरू किया था।

मंदिर हर साल लाखों भक्तों को आकर्षित करता है। यहाँ पूरे साल भक्तों की भीड़ लगी रहती है।

सोमनाथ मंदिर की वास्तुकला / Somnath temple architecture

आप आज जो संरचना देख रहे हैं वह पुराने मंदिर की तरह ही है और पारंपरिक डिजाइनों पर आधारित है।

यह क्रीम रंग का है और तटीय किनारे पर छोटी मूर्तियां हैं।

परिसर में 12 पवित्र मंदिरों के केंद्र में एक बड़ा काला शिव लिंगम है।

यह मुख्य शिव लिंगम पवित्र ज्योतिर्लिंग के रूप में जाना जाता है। मंदिर के शिखर पर लगे ध्वज में नंदी और त्रिशूल का चिन्ह है।

सोमनाथ मंदिर कैसे पहुंचे – How to reach Somnath Temple

Somnath Mandir सड़क और रेल मार्ग से यह स्थान बहुत अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। सड़क मार्ग से कोई भी वहां पहुंच सकता है क्योंकि यह आसपास के शहरों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है।

सबसे निकटतम, 7 किमी पर वेरावल है। अन्य शहर मुंबई के लिए 889 किमी की दूरी पर, अहमदाबाद के लिए 400 किलोमीटर, पोरबंदर के लिए 122 किलोमीटर और जूनागढ़ से 85 किलोमीटर की दूरी पर हैं।

रेल द्वारा, रास्ता वेरावल के माध्यम से होगा, जो केवल 6 किमी की दूरी पर निकटतम रेलवे स्टेशन है।

मुंबई और अहमदाबाद जैसे शहरों से पूरे भारत में नियमित ट्रेनें हैं। हवाई मार्ग से एक हवाई अड्डा पहुंच सकता है। यह मंदिर से 65 किमी की दूरी पर मंदिर के सबसे नजदीक है।

सोमनाथ मंदिर जाने का सही समय – Best time to reach Somnath Temple

यद्यपि Somnath Mandir पूरे वर्ष खुला रहता है और भक्त हर मौसम में यहां आते हैं, लेकिन कुछ विशेष अवसर ख़ास भीड़ होती है ।

मौसम के ठंडा होने पर यानि की आपको अक्टूबर से फरवरी के महीनों में जाना पसंद करना चाहिए। फरवरी या मार्च के महीने में शिवरात्रि भगवान शिव के भक्तों के लिए सबसे अधिक मनाया जाने वाला त्यौहार है।

एक और विशेष समय कार्तिक पूर्णिमा का है जो दिवाली के करीब आता है। यहाँ की हवा में उत्साह और धार्मिक भावनाएं हैं। सभी लोग खुशियों और आध्यात्मिकता से भरे हुए हैं।

सोमनाथ मंदिर खुलने का समय – Somnath Temple Timings

यह मंदिर दर्शन के लिए समय हर दिन सुबह 6 से 9:30 बजे तक है। विशेष आरती का समय सुबह 7 बजे, दोपहर 12 बजे और शाम को 7 बजे है। शाम को रोजाना शाम 7:45 बजे एक विशेष लाइट एंड साउंड शो भी है।

सोमनाथ मंदिर ट्रस्ट

आप सोमनाथ मंदिर ट्रस्ट के बारे में नीचे दिए गए वेबसाइट लिंक से जा सकते हैं।

यहाँ आप भगवन के लाइव दर्शन कर सकते हैं। वह रहने के लिए होटल बुक कर सकते हैं और डोनेशन जमा कर सकते हैं।

सोमनाथ ट्रस्ट की वेबसाइट / Trust Website https://somnath.org/
गेस्ट हाउस बुकिंग / Guest house booking https://booking.somnath.org/GuestHouse/
लाइव दर्शन / somnath mandir live darshan https://somnath.org/Home/Live-Darshan

सोमनाथ मंदिर के पास देखने के लिए अन्य स्थान – Places to visit around Somnath Temple

दिर के परिसर में एक संग्रहालय है जिसमें पुराने पत्थरों को प्राकृतिक रूप में उकेरा गया है। वे बरबाद लग सकते हैं, लेकिन वे मंदिर के मूल पत्थर हैं। इसमें सीशेल्स और पॉटरी शार्क का संग्रह है।

एक और महत्वपूर्ण स्थान भालका तीर्थ है। माना जाता है कि यह वही जगह है जहां भगवान कृष्ण को एक हिरन समझ कर एक शिकारी ने तीर से घायल कर दिया था।

परिसर में एक सूर्य मंदिर भी है। मंदिर परिसर के ठीक पीछे सोमनाथ तट है। साफ-सुथरी रेत है और यहां का नजारा देखने लायक है। आप यहाँ ऊँट की सवारी कर सकते हैं और नारियल पानी पी सकते हैं।

सोमनाथ मंदिर समुद्र तट

आपको यह भी पसंद आएगा


सारांश

मेरा ये मानना है की हम सब को एक न एक बार इस पवित्र मंदर के दर्शन जरूर करना चाहिए।

यह परिसर के अद्वितीय वास्तुकला और डिजाइन के साथ आपके अपनी तरफ काफी आकर्षित करता है।

यहाँ समुद्र तट ज्यादा गहरा नहीं है और रेत काफी साफ़ है। तो यह एक परिवार की यात्रा के लिए आदर्श है।

सूर्यास्त और सूर्योदय यहाँ का देखने लायक होता है। इसका आनंद जरूर लें।

उत्सव के समय यहाँ काफी भीड़ होती है । सो आप अपनी यात्रा इन सब का ध्यान रखते हुए प्लान करें।

क्षेत्र को पूर्ण रूप से आनंद लेने के लिए टूर पैकेज उपलब्ध हैं। क्षेत्र में घूमने के लिए कई स्थान हैं। सर्दियों के मौसम में यात्रा की योजना बनाएं ताकि खुले में लंबे समय तक रह सकें और आनंद उठा सकें।

दोस्तों उम्मीद करती हूँ की सोमनाथ मंदिर (Somnath Mandir) पे हमारी ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी।


 690 total views,  4 views today

Lata

Hello Friends, Thank you for stopping by at a2zHindiInfo.com। आपकी तरह मुझे भी current affairs और General Knowledge बहुत पसंद है और आज के ज़माने में अपने आस पास जो हो रहा है उससे अपने आप को अपडेटेड रखना भी बहुत जरूरी है । मैंने जो भी ज्ञान हासिल किया है उसे मै सबके साथ शेयर करना चाहती हूं और मेरा ये ब्लॉग उसी दिशा में एक कदम है। अगर आपका कोई सुझाव है इस वेबसाइट को लेके या कोई शिकायत है तो हमें जरूर लिक भेजें। हमारा ईमेल हैं contact@a2zhindiinfo.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *