Sukanya samriddhi yojana

Sukanya Samriddhi Yojana – सुकन्या समृद्धि योजना

Government Schemes

सुकन्या समृद्धि योजना , भारत सरकार की एक छोटी जमा योजना ( small deposits scheme ) है जो बेटियों के सुरक्षित भविष्य को ध्यान में रखकर बनाई गयी है । इस लेख में हम Sukanya Samriddhi Yojana का पूरा विवरण देंगे और सुकन्या समृद्धि योजना कैलकुलेटर ( Sukanya samriddhi yojana calculator  ) के बारे में भी बताएँगे जो आप उपयोग कर सकते हैं।

सुकन्या समृद्धि योजना (Sukanya Samriddhi Yojana) को “बेटी बचाओ बेटी पढाओ” अभियान के एक भाग के रूप में शुरू किया गया था। यह योजना बालिकाओं की शिक्षा और शादी के खर्चों को पूरा करने के लिए है।

भारत एक बहुत बड़ी आबादी वाला देश है। यहां बेटी होना कई लोगों द्वारा आनंद नहीं माना जाता है।

आज भी कई माता-पिता बेटियों शिक्षा और शादी पर खर्च के बारे में चिंता करते हैं, महसूस करते हैं कि बालिका उन पर बोझ है। 

लेकिन इस गलत सोच को ठीक करने के लिए सरकार ने कई परियोजनाएं शुरू की हैं, जो बालिकाओं को शिक्षित करने और उन्हें बचाने में मदद करेंगी।

सुकन्या समृद्धि योजना (Sukanya Samriddhi Yojana) लड़कियों को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में एक कदम है । आज की दुनिया में हर व्यक्ति के लिए जीवनयापन के लिए कमाई करना बहुत जरूरी है। 

यह योजना बालिकाओं को उनके भविष्य के लिए तैयार करने में मदद करती है। सुकन्या समृद्धि योजना कैलकुलेटर (Sukanya samriddhi yojana calculator ) का एक लिंक है नीचे जिसका उपयोग आप लाभ की गणना के लिए कर सकते हैं।

सुकन्या समृद्धि योजना ( Sukanya Samriddhi Yojana) सरकार द्वारा की गई कई पहलों में से एक है। यह योजना भारत के प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा शुरू की गई है।

सुकन्या समृद्धि योजना ( Sukanya Samriddhi Yojana) बेटी बचाओ बेटी पढाओ अभियान का एक हिस्सा है। इस योजना के तहत जमा धनराशि बालिकाओं के विवाह और शिक्षा के खर्च का ख्याल रखती है।

लड़कियों के लिए एक छोटी जमा योजना (Small deposit scheme) पानीपत हरियाणा में 22 जनवरी 2015 को शुरू की गई थी। 

सुकन्या समृद्धि योजना Sukanya Samriddhi Yojana – General Introduction

Sukanya Samriddhi Yojana योजना के तहत जमा किए गए धन पर 8.4% का रिटर्न मिलेगा और इस खाते पर अर्जित रिटर्न धारा 80 सी के तहत कर मुक्त है।

यह खाता देश के किसी भी डाकघर या बैंक में खोला जा सकता है। यह खता बेटी के जनम के समय से लेके दस साल की उम्र तक कभी भी खोला जा सकता है।

खाते को सक्रिय रखने के लिए न्यूनतम जमा आवश्यकता 250 रुपये है। प्रत्येक वर्ष न्यूनतम 250 रुपये जमा करने होते हैं और अधिकतम 1.5 लाख रुपये की अनुमति दी जाती है।

खाता खोलने के बाद से 21 साल तक या बिटिया की शादी तक या खाता सक्रियरहेगा ।

Sukanya Samriddhi Yojana की शुरुआत कैसे हुई ?

बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना में बालिकाओं की मदद के लिए लक्षित कल्याण सेवाओं की दक्षता बढ़ाने के प्रयासों के तहत सरकार द्वारा शुरू किया गया एक जागरूकता अभियान है।

यह योजना मानव संसाधन विकास मंत्रालय, महिलाओं और बाल कल्याण मंत्रालय और स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा शुरू और चलाई गई है।

वे सभी एक साथ काम कर रहे हैं ताकि संतुलन वापस लाया जा सके और पूरे देश में लिंगानुपात में सुधार हो सके।

शुरुआत में यह योजना केवल हरियाणा, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, दिल्ली और बिहार में 100 करोड़ के निवेश के साथ शुरू की गयी थी।

पूरे देश में एक राष्ट्रीय कार्यकारी समिति का गठन किया गया था। वे बालिकाओं को बचाने और उन्हें शिक्षित करने के लिए सभी योजनाओं के सुचारू रूप से चलाने के लिए जिम्मेदार थे।

Sukanya Samriddhi Yojana इस के तहत शुरू की गयी योजना है।

सुकन्या समृद्धि योजना की आवश्यकता क्यों थी?

भारत में बालिकाओं की घटती संख्या सभी के लिए चिंता का कारण है। सरकार ने राष्ट्रीय स्तर पर समस्या से निपटने के लिए कदम उठाने शुरू किए।

वर्ष 2001 की जनगणना के आंकड़ों के अनुसार, जब ० तो ६ साल के बच्चों की गड़ना की गयी तो पता चला है कि प्रति 1000 लड़कों पर केवल 927 लड़कियां हैं।

यह आंकड़ा वर्ष 2011 में प्रति 1000 लड़कों पर केवल 918 लड़कियों तक गिर गया। 2012 में यूनिसेफ द्वारा प्रकाशित एक रिपोर्ट में, भारत 195 देशों में 41 वें स्थान पर था।

यह न केवल एक शर्मनाक स्थिति है, बल्कि एक चिंताजनक भी है, इसलिए सरकार ने इस स्तिथि से निपटने के लिए कई कदम उठाये।

Sukanya Samriddhi Yojana सुकन्या समृद्धि योजना के उद्देश्य

इस योजना के मुख्या उद्देश्य हैं –

  • बालिकाओं के पूर्ण संरक्षण और पोषित अस्तित्व को सुनिश्चित करना।
  • बालिकाओं की शिक्षा और आत्मनिर्भरता सुनिश्चित करना।
  • लड़कियों के बीच शिक्षा को बढ़ावा देना
  • समाज के सभी स्तरों पे बेटियों के लिए बराबर अवसर सुनिश्चित करना।
  • CSR/SRB को बढ़ावा देना ताकि वो इस दिशा में और अच्छा काम करें।
  • स्थानीय जरूरतों को देखते हुए उन राज्यों और जिलों पर ध्यान केंद्रित करना जहां ये समस्याएं ज्यादा है । 
  • लैंगिक रूढ़ियों और सामाजिक मानदंडों की चुनौती का सामना करने के लिए समुदायों के साथ प्रोग्राम्स तैयार करना ।
  • स्थानीय आवश्यकताओं और संवेदनशीलता के अनुसार जिला स्तर पर हस्तक्षेप करने के लिए एक अभिनव तरीका अपनाना।
  • बच्चे के अधिकारों की समस्याओं के लिए विभिन्न योजनाओं की सेवाओं को उत्तरदायी बनाना।

Sukanya Samriddhi Account सुकन्या समृद्धि खाता – विवरण

  1. बालिका के माता-पिता या उसके कानूनी अभिभावक बालिका के लिए सुकन्या समृद्धि खाता खोल सकते हैं ।
  2. जब खाता खोला जा रहा हो तब बालिका की आयु 10 वर्ष से कम होनी चाहिए और जब तक वह 21 वर्ष की न हो जाए, तब तक खाता चालू रहेगा।
  3. इस तरह का खाता खोलने के लिए पहला निवेश सिर्फ 250 रुपये है।
  4. इसके बाद, प्रत्येक वर्ष न्यूनतम 250 रुपये जमा करने होंगे और अधिकतम 1 लाख और 50 हजार रुपये इस खाते में निवेश किए जा सकते हैं।
  5. सुकन्या समृद्धि योजना के तहत एक बालिका के नाम पर केवल एक ही खाता खोला जा सकता है।
  6. बालिकाओं का खाता खोलने के लिए दस्तावेजों के साथ एक जन्म प्रमाण पत्र की आवश्यकता होगी।

Sukanya samriddhi yojana calculator

नीचे कुछ Sukanya samriddhi yojana calculator के लिंक दिए गए हैं जिन्हें आप निवेश के बाद राशि की जांच के लिए उपयोग कर सकते हैं।

  • इकनोमिक टाइम्स पर सुकन्या समृद्धि योजना कैलकुलेटर के लिए -> यहां क्लिक करें ।
  • HDFC बैंक पर सुकन्या समृद्धि योजना कैलकुलेटर -> यहां क्लिक करें
  • आप इसे groww.in पर भी चेक कर सकते हैं
  • बैंकबाजार पर सुकन्या समृद्धि योजना कैलकुलेटर पे भी चेक कर सकते हैं

sukanya samriddhi yojana post office

आप सुकन्या समृद्धि योजना पोस्ट ऑफिस खाता (sukanya samriddhi yojana post office account ) भी खोल सकते हैं। आप विवरण के लिए अपने नजदीकी डाकघर से संपर्क कर सकते हैं। 

आप भारत पोस्ट वेबसाइट पर नीचे दिए गए लिंक को भी देख सकते हैं।

यहाँ क्लिक करें

अन्य महत्वपूर्ण लिंक

भारत सरकार वेबसाइट पर और पढ़ें यहाँ क्लिक करें
SBI sukanya samriddhi yojana यहाँ क्लिक करें
HDFC sukanya samriddhi yojana यहाँ क्लिक करें
ICICI sukanya samriddhi yojana यहाँ क्लिक करें

सारांश

आज भी जैसे-जैसे दुनिया प्रौद्योगिकी और विज्ञान के क्षेत्र में आगे बढ़ती जा रही है, समाज अभी भी लैंगिक पूर्वाग्रह और कन्या भ्रूण हत्या जैसी बुराइयों से लड़ रहा है।

इसलिए, इस समस्या को दूर करने के लिए समाज के सभी सदस्यों जागरूक करने की जरूरतहै और  यह एक व्यक्ति या एक संगठन द्वारा नहीं किया जा सकता है।

इसलिए, सरकार ने एक कदम आगे बढ़ाया और लिंगानुपात में सुधार के लिए सुकन्या समृद्धि योजना ( sukanya samriddhi yojana ) जैसी योजनाएं शुरू कीं। भारत के कुछ राज्यों में पुरुषों की तुलना में लड़कियों की संख्या कम है।

लड़कियों को उनकी शिक्षा और शादी के लिए किए गए खर्च के कारण एक बोझ के रूप में माना जाता है। इसलिए कुछ संकीर्ण सोच वाले लोग इसे बेटी के लिए अभिशाप मानते हैं। 

सरकार ने लड़कियों को शिक्षित और आत्मनिर्भर बनाने के लिए यह योजना शुरू की है। 

बेटियों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए यह एक शानदार योजना है।


आप इसे भी पढ़ना पसंद करेंगे – किसान क्रेडिट कार्ड स्कीम


 562 total views,  1 views today

Lata

Hello Friends, Thank you for stopping by at a2zHindiInfo.com। आपकी तरह मुझे भी current affairs और General Knowledge बहुत पसंद है और आज के ज़माने में अपने आस पास जो हो रहा है उससे अपने आप को अपडेटेड रखना भी बहुत जरूरी है । मैंने जो भी ज्ञान हासिल किया है उसे मै सबके साथ शेयर करना चाहती हूं और मेरा ये ब्लॉग उसी दिशा में एक कदम है। अगर आपका कोई सुझाव है इस वेबसाइट को लेके या कोई शिकायत है तो हमें जरूर लिक भेजें। हमारा ईमेल हैं contact@a2zhindiinfo.com

1 thought on “Sukanya Samriddhi Yojana – सुकन्या समृद्धि योजना

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *