Ujjawala Yojna ( उज्जवला योजना )

Ujjawala Yojna pe nibandh | उज्जवला योजना पे निबंध

Government Schemes

दोस्तों आज हम Ujjawala Yojna (उज्जवला योजना) के बारे में जानेंगे। Ujjawala Yojna ( उज्जवला योजना ) क्या है और इसको शुरू करने के पीछे सरकार का उद्देश्य क्या है। इस जानकारी को आप इस विषय पर निबंध लिखने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं हैं।


Pradhan Mantri Ujjawala Yojna ( प्रधान मंत्री उज्जवला योजना ) शुरू क्यों की गयी ?

सो आइये जाने हैं की यह योजना शुरू क्यों की गयी ?

प्रत्येक मनुष्य को स्वच्छ वायु और भोजन का अधिकार होना चाहिए। लेकिन एक कड़वी सच्चाई यह है कि भारत में कई घर ऐसे हैं जहाँ जंगलों से इकट्ठा लकड़ी पर खाना पकाया जाता है।

यह न केवल वायु प्रदूषण पैदा कर रहा है, बल्कि भोजन पका रही महिलाओं और आसपास खेल रहे बच्चों के फेफड़ों को नुक्सान पहुंचाता है। यानि के यह एक स्वास्थ्य चुनौती बन गया है।

वार्षिक रूप से गणना की जाए और एक दिन में तीन भोजन पकाने की बात करें तो साल भर में यह काफी हो जाता है । इससे नुकसान अपरिवर्तनीय है।

यह नवजात शिशुओं को भी बहतु ज्यादा प्रभावित करता है । गायों के गोबर या खाना पकाने के लिए लकड़ियों के इस्तेमाल से होने वाली कई अन्य समस्याएं भी हैं।

इसलिए, भारत सरकार ने उज्ज्वला योजना ( Ujjawala Yojna )शुरू करके गरीबी रेखा से नीचे के लोगों की मदद की है।

स्वच्छ ईंधन की आवश्यकता क्यों है?

हालांकि जंगलों की लकड़ी या गाय का गोबर से खाना पकाने का एक मुफ्त स्रोत हो सकता है। लेकिन यह पर्यावरण को हो रहे नुकसान के साथ-साथ महिलाओं और बच्चों के स्वास्थ्य के संदर्भ में भी बड़ी समस्या पैदा करता है ।

इन ईंधनों के धुएं और धुएं के लंबे समय तक संपर्क में रहने से हृदय रोग, फेफड़े का कैंसर, फेफड़े के रोग, स्ट्रोक का खतरा, तीव्र श्वसन रोग और कई बीमारियां होती हैं।

बच्चों के मामले में, कई स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हो सकती है। समय पर फेफड़ों में ऑक्सीजन की कमी के कारण छोटे बच्चों की मौत हो सकती है।

उज्ज्वला योजना ( Ujjawala Yojna ) इस समस्या को सुलझाने के दिशा में उठाया गया एक कदम है।

जीवाश्म ईंधन से क्या समस्याएं हैं ?

जीवाश्म ईंधन का उपयोग तो सदियों से किया जा रहा है , लेकिन इसके बुरे प्रभाव बढ़ते ही गए हैं। कम नहीं हुए हैं।

ग्रामीण क्षेत्र में जहां आय का स्रोत बहुत सीमित है, लोग अभी भी खाना पकाने के लिए इन पुराने और असुरक्षित ईंधन का उपयोग कर रहे हैं।

डब्ल्यूएचओ ( WHO ) के अनुसार, इन ईंधनों के उपयोग के कारण भारत देश में लगभग 5 लाख मौतें हुई हैं। खाना पकाने से एक घंटे के धुएं के संपर्क में आने का बुरा प्रभाव एक साथ 400 सिगरेट के बुरे प्रभाव के बराबर है।

नतीजतन, फेफड़ों के कैंसर, सांस की बीमारियों और दिल की बीमारी जैसे कारणों से कई मौतें हुई हैं। उसी कारणों से बहुत से छोटे बच्चों में भी मौतें हुई हैं।

उज्ज्वला योजना क्या है? What is Ujjwala Yojna?

यह पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय ( Ministry of Petroleum and Natural Gas. ) द्वारा एक पहल है।

यह योजना इस उद्देश्य के लिए 8000 करोड़ रुपये के निवेश करेगी और साथ 5 करोड़ महिलाओं या परिवारों को इससे लाभ मिलेगा।

यह योजना सीधे महिलाओं तक पहुंचेगी और उन्हें इस योजना का सीधा फायदा होगा । यूँ समझिये की महिलाओं को सशक्त बनाने के दिशा में यह एक कदम है और इस स्कीम से उनके स्वास्थ्य से संबंधित जोखिम कारक को कम किया गया है।

खाना पकाने में लगने वाला समय भी कम हो गया है। स्वच्छ ईंधन होने की वजह से एलपीजी (LPG ) काफी उचित है।

और एलपीजी की आपूर्ति श्रृंखला के प्रावधान ने युवाओं के लिए हर स्तर पर, विशेषकर ग्रामीण स्तर पर रोजगार सृजित करने में भी मदद की है।

Ujjawala Yojna (उज्जवला योजना) के लिए कौन आवेदन कर सकता है?

यद्यपि, गरीब पृष्ठभूमि की कोई भी वयस्क महिला इस एलपीजी कनेक्शन के लिए रियायती दरों पर आवेदन कर सकती है।

वह निम्न-आय वर्ग से संबंधित होना चाहिए और उनके पास एक मान्य बीपीएल कार्ड (BPL Card ) होना चाहिए।

सभी लाभार्थियों को SECC सूची के तहत सूचीबद्ध किया गया है। प्रधान मंत्री आवास योजना के तहत पंजीकृत सभी एससी / एसटी। वन निवासी और जनजाति भी इस स्कीम के लिए पात्र हैं।

Ujjawala Yojna (उज्जवला योजना) के तहत क्या प्राप्त होगा?

उज्जवला योजना (Ujjawala Yojna) के तहत, बीपीएल (BPL) परिवारों को पांच करोड़ नए अनुदानित कनेक्शन प्रदान किए गए हैं।

इस योजना के तहत, प्रत्येक आवेदक को वित्तीय सहायता दी जाती है , स्टोव खरीदने और LPG कंपनी से सिलिंडर रिफिल के लिए 1600 रुपये दिए जाते हैं। 1600 रुपये में में उन्हें :

  • एक सिलेंडर,
  • बुकलेट,
  • गैस पाइप ,
  • गैस रेगुलेटर

आदि दिए जाते हैं, जो सरकार द्वारा भुगतान किया जाता है।

Ujjawala Yojna ( उज्जवला योजना ) की प्रक्रिया क्या है?

वह महिला जो वर्तमान में अपने नाम पर एलपीजी कनेक्शन नहीं रखती है और बीपीएल घराने से संबंध रखती है, Ujjawala Yojna ( उज्जवला योजना ) के लिए निवेदन कर सकती है।

उसे एक फॉर्म भरना होगा और एलपीजी वितरक के पास जमा करना होगा जो उसके आपूर्ति के क्षेत्र के अनुसार होना चाहिए। यानि की उसके एरिया का LPG वितरक के पास फॉर्म जमा करना होगा ।

बैंक खाते के विवरण, आधार संख्या, पता और बीपीएल कार्ड विवरण को फॉर्म में प्रमाण के साथ सुसज्जित करना होगा।

एलपीजी अधिकारी उस क्षेत्र के लिए SECC-2011 सूची में विवरणों को टैली करेगा और सत्यापित करेगा। वह बीपीएल स्थिति को सत्यापित करेगा और फिर सब्सिडी वाले कनेक्शन देने की अनुमति को मंजूरी देगा।

उज्जवला योजना का उद्देश्य स्वच्छ ईंधन बेहतर जीवन है। यह महिलाओं को सशक्त बनाने और उनकी स्वास्थ्य स्थितियों में सुधार करने में मदद करेगा।

ऊँची पहाड़ियों जैसे कठिन इलाकों में जहाँ महिलाओं को लंबी दूरी तय करनी पड़ती हैं लकड़ियां लाने के लिए , यह योजना बहुत फायदेमंद है और एक जीवन रक्षक साबित हो सकती है।

यह जीवाश्म ईंधन के कम उपयोग के कारण पर्यावरण में प्रदूषण को कम करेगा।

सो वह परिवार जो अब तक इस तरह की योजना में शामिल नहीं है , वह इस योजना का लाभ उठा सकता है।


सारांश

वो राज्य जहाँ पर रास्ते दुर्गम हैं , जैसे की पहाड़ी राज्य जैसे पूर्वोत्तर राज्य , जम्मू-कश्मीर आदि में यह स्कीम लोगों को काफी लाभ पहुंचाएगी।

इस योजना से महिलाओं के जीवन के स्तर में सुधार होगा।

यह भी जांचने की जरूरत है कि महिलाएं केवल एलपीजी सिलेंडर स्टोर नहीं करतीं हैं बल्कि उसका इस्तेमाल भी करती हैं। ऐसा तो नहीं की इसके बाद भी वो अपने पुराने तरीकों से ही खाना बनाती हैं। यह योजना के पूरे उद्देश्य को हरा देगा।

इस योजना से ग्रामीण क्षेत्र के लोग काफी लाभान्वित हुए हैं। उन्हें लकड़ी की लौ पर खाना पकाने के अपने पारंपरिक तरीकों का पालन करने की मानसिकता से बाहर आना होगा।

एक खुश और स्वस्थ महिला एक स्वस्थ और मजबूत परिवार की नींव है। वह परिवार के सभी सदस्यों की बेहतर देखभाल करने में सक्षम होगी।

प्रक्रिया में बचाए गए समय को नौकरी या उसके बच्चों की शिक्षा में लगाया जा सकता है। खाना भी साफ और सुरक्षित रहेगा।

सो इस स्कीम के बड़े फायदे हैं और महिला सशक्तिकरण की दिशा में यह एक महत्वपूर्ण कदम है।



सुकन्या समृद्धि योजना क्या है – इसके बारे में सारी जानकारी यहाँ पढ़िए

 182 total views,  2 views today

Lata

Hello Friends, Thank you for stopping by at a2zHindiInfo.com। आपकी तरह मुझे भी current affairs और General Knowledge बहुत पसंद है और आज के ज़माने में अपने आस पास जो हो रहा है उससे अपने आप को अपडेटेड रखना भी बहुत जरूरी है । मैंने जो भी ज्ञान हासिल किया है उसे मै सबके साथ शेयर करना चाहती हूं और मेरा ये ब्लॉग उसी दिशा में एक कदम है। अगर आपका कोई सुझाव है इस वेबसाइट को लेके या कोई शिकायत है तो हमें जरूर लिक भेजें। हमारा ईमेल हैं contact@a2zhindiinfo.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *